जागरण संवाददाता, मीरजापुर: बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के तहत गुरुवार शाम को आधा दर्जन विभागों और स्वयंसेवी संगठनों द्वारा नगर में निकाली हुई रैली निकाली के दौरान विभिन्न स्थानों पर स्थित दुकानों और रेस्टोरेंट से ग्यारह बच्चों को बरामद किया गया था। इन बच्चों का मंडलीय अस्पताल में मेडिकल होना था एक्स-रे टेक्निशियन के न होने से मेडिकल नहीं हो पाया। बच्चों को मोर्चाघर स्थित राजकीय संप्रेक्षण गृह तथा बाल गृह बालिका में रखा गया है।

गुरुवार को पुलिस लाइन में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के तहत कार्यशाला आयोजित थी। कार्यशाला के बाद शाम को जिला प्रोबेशन अधिकारी अमरेंद्र कुमार के नेतृत्व में जागरूकता रैली निकाली गई। रैली शहर के विभिन्न बाजारों से होकर गुजरी तो संगमोहाल, त्रिमुहानी लालडिग्गी, स्टेशन रोड आदि स्थानों पर दुकान और रेस्टोरेंट आदि में अवयस्क बच्चे काम करते मिले थे। इन बच्चों को पुलिस ने कब्जे में लिया। इनमें सात बालक और चार बालिकाएं थी। शुक्रवार को इन बच्चों को मेड़िकल के लिए मंडलीय अस्पताल ले जाया गया था। वहां तकनीशियन के न होने की वजह से मेडिकल नहीं हो पाया। 'बरामद बच्चों में चार लड़कियां और सात लड़के हैं। लड़कियों को पक्का पोखरा स्थित बाल गृह बालिका और लड़कों को नारघाट स्थित चाइल्ड लाइन में रखा गया है। बरामद बच्चों का शनिवार को मेडिकल कराया जाएगा। इसके बाद सीडब्ल्यूसी के साथ बैठक कर विधिक प्रक्रिया अपनाई जाएगी।'

- अमरेंद्र कुमार पौत्स्यायन, जिला प्रोबेशन अधिकारी

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस