जागरण संवाददाता, अहरौरा (मीरजापुर) : गुरु तेग बहादुर साहिब का पावन प्रकाश उत्सव स्थानीय गुरुद्वारा तेग बहादुर साहिब में परंपरागत ढंग से मनाया गया। इस अवसर पर सबद कीर्तन का आयोजन किया गया और सायंकाल पांच बजे नगर में शोभा यात्रा निकाली गई। बुधवार को गुरुतेग बहादुर जी का प्रकाश पर्व टिकरा खरनजा स्थित गुरुद्वारा में मनाया गया। इस अवसर पर अखंड पाठ साहिब रखा गया। जहां सोनभद्र, मुगलसराय, रामनगर, वाराणसी, दिल्ली इत्यादि स्थानों से आए लोगों ने मत्था टेका और सबद कीर्तन में प्रतिभाग किया। इसके बाद दोपहर में लंगर छका। सांय पांच बजे नगर में शोभायात्रा निकाली गई।

जिसमें पालकी साहिब के आगे लोगों ने पानी डालकर झाडू लगाकर सेवा किया। इस अवसर पर हाथ में तलवार लेकर पंच प्यारे बच्चे, बच्चियां एवं पुरुष चल रहे थे। नगर भ्रमण के शोभा यात्रा बाद देर शाम वापस गुरुद्वारा पहुंची। गुरुतेग बहादुर सिंह का जन्म 1 अप्रैल 1621 को अमृतसर में हुआ। गुरुतेग बहादुर जी 1722 में तीर्थयात्रा के दौरान आनंदपुर साहिब से चलकर इलाहाबाद, विध्याचल, मीरजापुर, चुनार, पटिहटा होते हुए अहरौरा पहुंचे और यहां 11 दिन तक रहे और यहीं पर वैशाख वदी 1723 में पंचमी को अपना जन्मदिन मनाया और यहां बाग लगाया जो उनके नाम से प्रसिद्ध है। इस अवसर पर सरदार तरन सिंह अध्यक्ष, लक्षिमन सिंह उपाध्यक्ष, ईश्वर सिंह सेकेट्री, गुरुमीत सिंह, दर्शन सिंह, जसवीर सिंह, सतपाल सिंह आदि थे। नगर पालिका अध्यक्ष गुलाब मौर्या, पूर्व विधायक ललितेशपति त्रिपाठी आदि शोभा यात्रा में शामिल हुए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप