जागरण संवाददाता, मीरजापुर : नगर में आइपीएल के सट्टेबाजों पर लगाम कसने में प्रशासन की सक्रियता के बाद भी सफलता नहीं मिल रही। शहर के बीचोबीच कई मोहल्लों में शाम होते ही सट्टा बाजार गुलजार होता है। आठ बजे से मैच शुरू होने के बाद चौकों-छक्कों के शोर में आइपीएल की सट्टेबाजी खूब चलती है। शहर सहित ग्रामीण क्षेत्र के युवा भी आइपीएल पर खूब पैसा लगाते हैं जिससे यह कारोबार बढ़ता जा रहा है।

विध्याचल थानाक्षेत्र में गैपुरा तक सट्टेबाजी का रैकेट फैला हुआ है और चलते वाहनों से सट्टेबाजी की जा रही है। इसके अलावा सूत्रों की मानें तो कटरा कोतवाली क्षेत्र के गणेशगंज कीर्तन भवन के पास गुप्त तरीके से प्रतिदिन मैच के दौरान सट्टा लग रहा है और लाखों का वारा-न्यारा होता है। वहीं नारघाट, त्रिमुहानी ,गणेशगंज, भैसहिया टोला जैसी जगहों पर भी सट्टेबाजी का बड़ा रैकेट चलाया जा रहा है। शाम होते ही यह सिलसिला शुरू हो जाता है जो कि नगर में चर्चा का विषय बना हुआ है। ग्रामीण क्षेत्रों में आइपीएल के दौरान बड़े पैमाने पर सट्टा चल रहा है। अहरौरा क्षेत्र से हुई तीन सट्टेबाजों की गिरफ्तारी के बावजूद अहरौरा, जमालपुर, पड़री, मड़िहान, देहात कोतवाली, कछवां थानाक्षेत्रों में बड़े पैमाने पर आइपीएल के दौरान सट्टेबाजी हो रही है। दिल्ली तक जुड़े हैं तार

अहरौरा से पकड़े गए सट्टेबाज ने पुलिस पूछताछ में यह बात कबूली कि सट्टेबाजी के तार दिल्ली व मुंबई जैसे महानगरों से जुड़े हैं। सट्टे से जुड़े सूत्रों की मानें तो मैच शुरू होने से पहले और खत्म होने तक सट्टेबाजों को आंकड़े पहले ही मिल जाते हैं, जिसके बाद वे सट्टा लगाते हैं। इसमें मैच की जीत-हार से लेकर खिलाड़ी के आउट होने, रन बनाने, चौके या छक्के लगाने तक पर सट्टा लगाया जाता है।

------------------------------वर्जन

'आइपीएल के दौरान सट्टेबाजी की शिकायतों पर पुलिस काम कर रही है। जहां भी इस तरह की संदिग्ध गतिविधि होगी, वहां कार्रवाई की जाएगी।'

- संजय सिंह, सीओ सदर, मीरजापुर

--------------------------------------------------

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप