जागरण संवाददाता, मीरजापुर : समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित योजनाओं के लाभार्थियों को अब इंडिया पोस्टल पेमेंट बैंक (आईपीपीबी) माध्यम से छात्रवृत्ति की धनराशि का भुगतान होगा। पीएफएमएस से सीधे लिक होने के कारण आईपीपीबी छात्रवृत्ति को सुरक्षित लाभार्थी के खाते में भेजा जा सकता है।

समाज कल्याण विभाग द्वारा छात्रवृत्ति योजना, वृद्धा पेंशन योजना, राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना के साथ ही अत्याचार उत्पीड़न योजना के लाभार्थियों को डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी) के माध्यम से भेजी जाती है। इससे लाभार्थी को लाभ तो होगा ही साथ ही पोस्ट आफिस को भी उबारने की एक कोशिश की जा रही है। जिला समाज कल्याण अधिकारी मंजू सोनकर ने बताया कि लाभार्थियों को योजना का लाभ लेने के लिए अब पोस्ट आफिस में खाता खोलवाना होगा।

-----

गांवों को बैंकिग से जोड़ने की कोशिश

प्रधान डाकघर फतहां से ग्राहकों को इंडिया पोस्टल बैंक की सुविधा मिल रही है। ग्राहकों की मांग पर डाक विभाग द्वारा घर जाकर भी सुविधा प्रदान की जा रही है। पोस्ट मास्टर एनपी मिश्रा ने बताया कि आईपीपीबी की मदद से ऐसे ग्रामीण क्षेत्रों को बैंकिग से जोड़ने की कोशिश की जा रही है जहां पर बैंक नहीं हैं। इस काम में डाकिए बैंकर का काम करेंगे। डाकिए मोबाइल फ़ोन और बायोमीट्रिक उपकरण लेकर लोगों को घर पर बैंकिग सुविधा महुैया कराएंगे। इसमें खोले जाने वाले बचत खातों पर चार प्रतिशत की दर से ब्याज मिलता है। बचत या चालू खातों में अन्य बैकों की तरह ही कई सारी सुविधाएं मिलती हैं। मनी ट्रांसफ़र, सरकारी योजनाओं के पैसे सीधे ़खाते में आने, बिल पेमेंट और ़खरीदारी की पेमेंट करने जैसी सुविधाएं भी मिलती है। बता दें कि वर्तमान समय में इंडिया पोस्टल पेमेंट बैंक (आईपीपीबी) की 73 शाखाएं और 17664 विभिन्न डाक सेवा केंद्र संचालित हो रहे हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस