जागरण संवाददाता, मीरजापुर : जिलाधिकारी सुशील कुमार पटेल पटेल की अध्यक्षता में बुधवार को कलेक्ट्रेट सभागार में पौधारोपण समिति की बैठक आयोजित की गई। साथ ही जिला पर्यावरण व जिला गंगा समिति की बैठक भी की गई। बैठक में पौधारोपण के लक्ष्य को पूरा करने, गंगा में नालों द्वारा कचरा रोकने, पर्यावरण को स्वच्छ बनाए रखने के लिये नगर पालिका के अधिकारियों व संबंधित अधिकारियों से चर्चा की गई। सभी से एक सप्ताह में कार्ययोजना देने को कहा गया है।

जिलाधिकारी ने बताया कि शासन द्वारा प्रदेश में कुल 25 करोड़ पौधे रोपित किए जाने हैं। इसमें वन विभाग द्वारा 10 करोड़ व अन्य 26 विभागों द्वारा 15 करोड़ पौधे लगाए जाएंगे। जनपद में कुल 5059280 पौध रोपित करने का लक्ष्य रखा गया है। कहा कि लक्ष्य को पूरा करने के लिए विभागवार आवंटन भी कर दिया गया है। सभी विभागीय अधिकारी कार्ययोजना एक सप्ताह के अंदर बनाकर प्रभागीय वनाधिकारी कार्यालय में उपलब्ध करा दें। वर्ष 2020-21 के लिए वन व वन्य जीव विभाग 2195180, पर्यावरण विभाग 143000, ग्राम्य विकास विभाग 1671400, राजस्व विभाग 190300, पंचायती राज विभाग 190300, आवास विकास 8600, औद्योगित विकास 5100, नगर विकास 27000, लोक निर्माण विभाग 14000, जल शक्ति विभाग 1400, रेशम विभाग 23100, कृषि विभाग 320700, पशुपालन विभाग 8500, सहकारिता विभाग 7600, उद्योग विभाग 10400, उर्जा विभाग 6800, माध्यमिक शिक्षा 3800, बेसिक शिक्षा 3800, प्राविधिक शिक्षा 7100, उच्च शिक्षा 27100, श्रम विभाग 3500, स्वास्थ्य विभाग 13600, परिवहन विभाग 3500, रेलवे 27600, रक्षा विभाग 8600, उद्यान विभाग 115700, गृह विभाग 9000 पौधे रोपित करने का लक्ष्य दिया गया है। बैठक में सीडीओ अविनाश सिंह, प्रभागीय वनाधिकारी राकेश चौधरी, सीएमओ डा. ओपी तिवारी, अधिशासी अभियंता जलनिगम, लोक निर्माण विभाग, विद्युत, सिचाई, डीपीआरओ अरविद कुमार सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

यह पौधे प्रमुखता से लगेंगे

प्रभागीय वनाधिकारी ने बताया कि रोपित किए जाने वाले पौधों में मुख्यत: सागौन, शीशम, सहजन, अमरूद, जामुन, इमली, आंवला, शरीफा, बैर, नीम, महुआ, पीपल, पाकड़, बरगद, बेल, करौंदा, आम, नींबू, बड़हल, कटहल, चिलबिल आदि के पौधे वन विभाग की नर्सरी से उपलब्ध कराए जाएंगे।

गंगा प्रदूषण रोका जाए

मीरजापुर व विध्याचल में 27 प्रमुख नालों व छह नालों का मल्टी प्लांट कार्य गंगा प्रदूषण प्लांट में ले जाया जा रहा है। डीएम ने सभी नगर पालिकाओं के ईओ से कहा नगर के नालों का गंदा व कचरा वाला पानी गंगा में न जाने पाए। इसके लिए नालों के मुहाने पर लोहे की जाली लगाई जाए। जिलाधिकारी ने इसके लिए सभी ईओ को कार्ययोजना देने का निर्देश दिया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस