जागरण संवाददाता, मीरजापुर : मोहर्रम की छुट्टी होने के चलते मंगलवार को दोपहर 12 बजे तक ही मंडलीय चिकित्सालय खुलने के कारण मरीजों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। लगभग पांच सौ मरीज बगैर दवा व इलाज कराए ही घर लौट गए। इसमें बुखार, पेट दर्द, नाक, कान गला, आंख समेत अन्य बीमारियों के मरीज शामिल थे। जिनको इलाज की अधिक जरुरी थी वह निजी चिकित्सकों के यहां चले गए।

मोहर्रम की छुट्टी के चलते मंगलवार को मंडलीय चिकित्सालय केवल 12 बजे तक खुला था। लेकिन यह बात मरीजों को पता नहीं थी। मरीज दस बजे अस्पताल पहुंचकर परची कटवाने के बाद जब चिकित्सक के पास पहुंचे तो भीड़ अधिक होने के कारण उनका नंबर नहीं आया । इसके चलते वह डाक्टर को नहीं दिखा पाए। जो लोग डाक्टर को दिखाने के बाद काउंटर पर दवा लेने पहुंचे उनको काउंटर बंद होने के कारण दवाए नहीं मिल पाई। पूछने पर कर्मचारियों ने बताय कि मोहर्रम की छुट्टी होने के कारण मंगलवार को अस्पताल खुलने का समय केवल 12 बजे तक का था। इस समय साढ़े 12 बज रहा है इसलिए सभी डाक्टर व कर्मचारी चले गए हैं। जिससे उनको दवाए नहीं मिल पाएंगी। बुधवार को दोबारा अस्पताल आकर दवाएं ले जा सकती है। दवा नहीं मिलने पर मरीज घर लौट गए। जिनको दवा लेना जरुरी था वे मरीज बाहर स्थित मेडिकल से दवाएं लेकर गए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप