जागरण संवाददाता, जमालपुर (मीरजापुर) : बालिका उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के 43वें वार्षिकोत्सव पर शनिवार को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ विषयक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री एवं सांसद अनुप्रिया पटेल ने सरस्वती माता की प्रतिमा पर माल्यार्पण के साथ दीप प्रज्ज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

सासंद ने कहा कि सरकार बेटियों को बचाने के लिए तमाम योजनाएं चला रही है। मातृ वंदना जैसी कई योजनाएं चलाई जा रही हैं। बेटियों की सुरक्षा के लिए सबसे बड़ी जिम्मेदारी समाज की है क्योंकि समाज ही मूल ईकाई है। बेटियों को बेटे के बराबर का दर्जा देना हमारी जिम्मेदारी है। परिवार के किसी महत्वपूर्ण फैसले में बेटियों की राय को भी बेटों की राय की तरह ही तवज्जों देनी चाहिए। अपने सोच में परिवर्तन लाकर हम बेटियों और महिलाओं के खिलाफ हो रहे जघन्य अपराधों पर रोक लगा पाएंगें। बेटियों की शिक्षा के साथ समझौता नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि शिक्षा से ही बेटियां आत्मनिर्भर बनती है और चुनौतियों का सामना करने को तैयार होती है। विद्यालय के विकास के लिए सांसद निधि से 10 लाख रुपये देने की घोषणा किया। विशिष्ट अतिथि इंडिया न्यूज एवं उत्तराखंड के प्रभारी अरविद चतुर्वेदी ने कहा कि बेटा और बेटियों के बीच के अंतर को समाप्त कर ही बेटियों पर हो रही। विद्यालय के प्रबंधक नवल किशोर सिंह ने मुख्य एवं विशिष्ट अतिथि का स्मृति चिन्ह देकर स्वागत किया। इस दौरान रेखा वर्मा, अंकित सिंह, अपना दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजेश पटेल, संजय सिंह, नागेश सिंह, जयप्रकाश सिंह आदि थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस