जागरण संवाददाता, विध्याचल (मीरजापुर) : मां विध्यवासिनी के दर्शन-पूजन के लिए सोमवार को विध्यधाम में श्रद्धालुओं को रेला उमड़ पड़ा। भीड़ इतनी थी कि तिल रखने तक की जगह नहीं थी। नवरात्र के दिनों में भी इतनी भीड़ नहीं थी। सोमवार को नवरात्र का रिकार्ड टूट गया। श्रद्धालुओं ने बताया कि शरद पूर्णिमा से पहले मुंडन संस्कार कराने के लिए वह पहले ही यहां दर्शन-पूजन के लिए आए हैं।

विध्यधाम पहुंचे श्रद्धालु नारियल, चुनरी, माला-फूल प्रसाद लेकर कतारबद्ध हो गए। गंगा घाटों पर भी स्नानाथियों की भीड़ दिखी। कोई झांकी से तो कोई गर्भगृह पहुंच मां विध्यवासिनी का दर्शन-पूजन किया। मां विध्यवासिनी के दर्शन-पूजन के बाद श्रद्धालुओं ने मंदिर परिसर पर विराजमान समस्त देवी-देवताओं को नमन किया। हवन-कुंड की परिक्रमा भी की। दर्शन-पूजन के बहाने विध्यधाम आए श्रद्धालुओं को विध्य कारिडोर की झलक भी देखने को मिला। मां विध्यवासिनी के दर्शन-पूजन के बाद श्रद्धालु मंदिर के आसपास भ्रमण को निकले तो विध्य कारिडोर निर्माण के लिए ध्वस्तीकरण के बाद विध्यधाम काफी बदला सा नजर आया। वैसे तो देर रात से ही दर्शनार्थियों का आगमन शुरू हो गया था। सुबह दस बजे तक सभी वाहन स्टैंड फुल हो गए। भीड़ इतनी थी कि सारी व्यवस्था अस्त-व्यस्त हो गई। सफाई व्यवस्था न होने से दर्शनार्थियों को काफी परेशानी हुई।

Edited By: Jagran