जागरण संवाददाता, मीरजापुर : काशी हिंदू विश्वविद्यालय के दक्षिणी परिसर स्थित पशु चिकित्सा व पशु विज्ञान संकाय के अंतिम वर्ष (इंटर्न) के पशु चिकित्सकों का धरना प्रदर्शन शनिवार को समाप्त हो गया। डीन शाहिद परवेज ने पशु चिकित्सकों को समझाया। बीएचयू में उच्चाधिकारियों से वार्ता करके समिति बनाकर समस्या के निराकरण के लिए पत्र भेजा। इसके बाद पशु चिकित्सकों ने चल रहा धरना प्रदर्शन समाप्त किया। हालांकि पशु चिकित्सकों के धरना प्रदर्शन के चलते शिक्षक, कर्मचारियों आदि को भी परेशानी का सामना करना पड़ा।

इसके पूर्व धरने में डा. अखिलेश वर्मा ने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा लापरवाही बरती जा रही है। पशु चिकित्सकों को स्टाइपेंड नहीं मिला तो आगे भी अनिश्चितकालीन धरना-प्रदर्शन किया जाएगा, जिसकी जिम्मेदारी विश्वविद्यालय प्रशासन की होगी। पांच वर्ष का एकेडमिक पढ़ाई खत्म करने के बाद भी पशु चिकित्सा संकाय के अंतिम वर्ष के छात्रों ने छह महीने की इंटर्नशिप भी पूरा कर लिया है। बावजूद इसके न तो स्टाइपेंड दिया गया और न ही कोई जानकारी दी जा रही है। डा. साक्षी, डा. अजय यादव, डा. महेश, डा. देवेंद्र, डा. शशि, डा. राम नरेश, डा. विपिन त्रिवेदी, डा. अंशु, डा. पीयूष राजपूत रहे।

Edited By: Jagran