जागरण संवाददाता, मीरजापुर : मंडलायुक्त मुरली मनोहर लाल ने मंगलवार को कलेक्ट्रेट परिसर का निरीक्षण किया। इस दौरान संयुक्त कार्यालय, एडीएम वित्त व राजस्व, एडीएम भू-राजस्व के कार्यालय व न्यायालय परिसर संग अभिलेखागार का गहन निरीक्षण किया। अभिलेखागार में जमीन पर मैट बिछाने, कागजातों को दीपक से बचाने के लिए उचित कदम उठाने का निर्देश दिया। कहा कि आनलाइन फी¨डग नहीं होने के कारण राजस्व वसूली की प्रगति कम दिखती है। इसलिए राजस्व वसूली की फी¨डग नियमित कराया जाए।

मंडलायुक्त ने डीएम कार्यालय में अभिलेखों का मुआयना किया। कहा कि वार्षिक निरीक्षण का उद्देश्य कमियां निकालना नहीं अपितु कार्यो में सुधार लाना है। संयुक्त दफ्तर में आलमारियों से रजिस्टर निकलवाकर पत्रावलियों के बारे में जानकारी प्राप्त की। बिजली देयकों की प्राप्त आरसी के सापेक्ष वसूली को रजिस्टर व कंप्यूटर में फीड नहीं करने पर नाराजगी जताया।संबंधित लिपिक को पो¨स्टग करने की हिदायत दी। कर्मचारियों अधिकारियों के सर्विस बुक व जीपीएफ के निरीक्षण के दौरान नवंबर, दिसंबर की इंट्री नहीं होने पर कि नियमानुसार वर्ष में प्रत्येक छह माह में पूर्ण करने की हिदायत दी। निरीक्षण के दौरान मिसिल बंद, नगर पालिका से संबंधित पत्रावली , धारा 144 की पत्रावली, विभिन्न क्षेत्रों का नक्शा तथा नकल बनाने, सी¨लग, राज्य संहिता, लंबित संदर्भों, आइजीआरएस, संपूर्ण समाधान दिवस, चरित्र प्रमाण पत्र संबंधित पत्रावलियों का निरीक्षण किया। निर्देश दिया कि धारा 144 लागू होने की सूचना समाचारपत्रों में प्रकाशित कराएं। डीएम अनुराग पटेल, एडीएम राजितराम प्रजापति, सीआरओ महमूद आलम अंसारी, डिप्टी कलेक्टर छत्रपाल ¨सह आदि मौजूद रहे।

----------

चरित्र प्रमाणपत्र, कराएं सत्यापन

मीरजापुर : कलेक्ट्रेट में निरीक्षण के दौरान पाया कि विभिन्न नौकरियों में आये लोगों के चरित्र प्रमाण पत्र की जांच को पत्र पुलिस अधीक्षक दफ्तर भेजा गया है। रिमाइंडर के बाद भी वर्ष 2016 की एक जांच व उसके बाद की जांच रिपोर्ट अभी प्राप्त नहीं हुई। मंडलायुक्त ने पुलिस अधीक्षक से वार्ता करके विभिन्न थानों से रिपोर्ट उपलब्ध कराने का भी निर्देश दिया।

Posted By: Jagran