जागरण संवाददाता, जमालपुर (मीरजापुर) : स्थानीय थाना क्षेत्र के मनउर गांव में सोमवार की शाम बिजली के करंट से संविदा कर्मी लाइन मैन की मौत के बाद परिजनों समेत सैकड़ों ग्रामीणों ने देर रात चौकिया-ढेबरा संपर्क मार्ग पर शव रखकर जाम लगा दिया। मामले की जानकारी होने पर पहुंचे विद्युत विभाग के अधिकारियों ने पांच लाख तथा तहसीलदार चुनार ने दैवीय आपदा कोष से चार लाख रुपये देने का आश्वासन देकर जाम को समाप्त कराया।

ग्रामीणों द्वारा सड़क जाम करने की सूचना मिलते ही मौके पर क्षेत्राधिकारी चुनार सुधीर कुमार, तहसीलदार ओमप्रकाश पांडेय, बिजली विभाग के एसडीओ आरके यादव, जेई शैलेश कुमार एवं अरूण मौके पर पहुंच गए। मौके की नजाकत को देखते हुए जमालपुर के साथ ही साथ अहरौरा, अदलहाट एवं चुनार थाने की पुलिस भी मौके पर तैनात हो गई। अधिकारियों ने आक्रोशित ग्रामीणों को समझाने का बहुत प्रयास किया लेकिन ग्रामीण टस से मस नहीं हुए बल्कि बिजली विभाग में परिवार के एक सदस्य को नौकरी की मांग पर अड़े रहे। देर रात 11:30 बजे क्षेत्राधिकारी एवं तहसीलदार चुनार एवं बिजली विभाग के एसडीओ के आश्वासन के बाद ग्रामीणों ने जाम समाप्त किया। बिजली विभाग ने पांच लाख रुपए की सहायता राशि एवं तहसीलदार चुनार ने चार लाख रुपए की सहायता राशि दैवीय आपदा कोष से एवं तीस हजार रुपए की सहायता राशि पारिवारिक लाभ योजना के तहत दिलाए जाने की घोषणा की। बिजली विभाग के अधिकारियों ने तत्काल पीड़ित परिवार को पंद्रह हजार रुपए की सहायता राशि प्रदान की। इस दौरान लगभग पांच घंटे तक जाम लगा रहा। जिससे लोगों को आवागमन में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। -विपत्तियों का टूटा पहाड़

संविदा कर्मी लाइन मैन संजय ¨सह की मौत के बाद उसके परिवार पर जैसे विपत्ति का पहाड़ टूट पड़ा। एकमात्र कमाउ सदस्य की मौत के बाद उसकी पत्नी एवं दो पुत्री एवं इकलौता पुत्र बेसहारा हो गए। मृतक संविदा कर्मी तीन भाइयों में पहले नंबर पर था, एवं अपने परिवार के साथ अलग रहता था। संविदा कर्मी की मौत के बाद उसकी पत्नी एवं बच्चों के करुण क्रंदन से पूरा माहौल गमगीन हो गया। मृतक की पत्नी सुधा देवी एवं पुत्री शालिनी पटेल (13) प्रियांशी (11) एवं इकलौता पुत्र ज्योतिष पटेल (8) है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप