मेरठ : पूरे साल हिदी माध्यम से एलएलबी की परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्र सोमवार को चौ. चरण सिंह विवि का प्रश्नपत्र देखकर भड़क गए। एनएएस कॉलेज में परीक्षार्थी परीक्षा का बहिष्कार करते हुए बाहर दोबारा से परीक्षा कराने की मांग को लेकर हंगामा किया। देर शाम विश्वविद्यालय ने सभी जगह एलएलबी के इस पेपर को दोबारा से कराने का निर्णय लिया। एक या दो जून में यह परीक्षा होगी।

सोमवार को एलएलबी छठे सेमेस्टर में लीगल लैंग्वेज एंड लीगल राइटिंग प्रोफिशिएंसी इन जनरल इंग्लिश की परीक्षा थी। एनएएस और मेरठ कॉलेज दोनों में सेंटर था। एनएएस कॉलेज में परीक्षा देने पहुंचे छात्र प्रश्नपत्र देखते ही भड़क उठे। जो प्रश्नपत्र अंग्रेजी और हिदी दोनों भाषाओं में आता है, वह केवल अंग्रेजी में था। हिदी माध्यम से परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्रों ने हंगामा शुरू कर दिया। परीक्षा का बहिष्कार कर बाहर निकलकर उन्होंने सड़क पर जाम लगा दिया। विश्वविद्यालय प्रशासन की लापरवाही पर जमकर नारेबाजी की। विश्वविद्यालय में रजिस्ट्रार को इसकी लिखित शिकायत की। रजिस्ट्रार धीरेंद्र कुमार ने पिछले साल के प्रश्नपत्रों से इस साल के प्रश्नपत्र का मिलान किया। पिछले साल विधि का यह प्रश्नपत्र दोनों भाषाओं में आया था। जिसे देखने के बाद छात्रों की मांग को जायज मानते हुए विवि ने दोबारा से परीक्षा कराने का निर्णय लिया है। रजिस्ट्रार धीरेंद्र कुमार वर्मा का कहना है कि सभी छात्रों की लीगल लैंग्वेज की परीक्षा दोबारा से कराई जाएगी। एक या दो जून को इसकी परीक्षा कराई जाएगी। इसका कार्यक्रम जल्द जारी कर दी जाएगी।

च क कैसे हुई, होगी जांच

हिदी और इंग्लिश में छपने वाला पेपर आखिर केवल हिदी में कैसे छपा। इससे छात्रों को असुविधा हुई तो दूसरी ओर विश्वविद्यालय को भी आर्थिक नुकसान हुआ है। मेरठ और सहारनपुर मंडल के सभी छात्रों को दोबारा से परीक्षा देना पड़ेगा। इस चूक की विवि जांच भी करेगा। 300 परीक्षार्थियों में से 25 परीक्षा छोड़कर बाहर आए

एनएएस कॉलेज में एलएलबी की परीक्षा के लिए कई कॉलेजों का केंद्र बनाया गया है। एलएलबी छठे सेमेस्टर में करीब 300 छात्र परीक्षा दे रहे थे। गलत प्रश्नपत्र मिलने पर छात्रों ने इसकी शिकायत कक्ष निरीक्षक और कॉलेज प्रशासन से की। उनका कहना था कि उन्होंने हिदी में तैयारी की है। ऐसे में वह अंग्रेजी में पूछे गए प्रश्नों का कैसे उत्तर दे पाएंगे। छात्रों ने हंगामा करते हुए परीक्षा का बहिष्कार कर बाहर निकलने का प्रयास किया। कॉलेज प्रशासन ने कुछ छात्रों को समझाकर परीक्षा देने से मना लिया। लेकिन 25 छात्र परीक्षा कक्ष से बाहर निकले, हंगामा करते हुए सड़क पर जाम लगा दिया। मौके पर पुलिस से छात्रों की जमकर बहस हुई। एसपी सिटी ने छात्रों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन छात्र दोबारा परीक्षा कराने पर अड़े रहे। कॉलेज प्रशासन ने छात्रों की शिकायत को विवि को लिखकर भेज दिया। जाम लगाने वाले छात्रों से बहस

कॉलेज के बाहर छात्रों के हंगामा और जाम लगाने से उधर से गुजरने वाले लोगों को काफी असुविधा हुई। एक महिला ने छात्रों के इस तरह के रवैये पर सवाल उठाया। छात्रों से उसकी जमकर बहस भी हुई।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस