मेरठ, जेएनएन। रेल बजट में वृहत स्तर पर लागू की गई परियोजनाओं का लाभ पश्चिम उत्तर प्रदेश को उसकी विशेष भौगोलिक स्थिति और आर्थिक महत्व के लिए लिहाज से मिलना तय है। किसान रेल से देश का शुगर बाउल कहे जाने वाले मेरठ और आसपास के इलाके के किसानों की स्थिति सुधरेगी।

वहीं दिल्ली देहरादून ऋषिकेश के रेल रूट के रास्ते में होने से मेरठ के यात्रियों को तेजस ट्रेन मिलने की पूरी संभावना है।

किसानों को कृषि उत्पादों की बिक्री के लिए कि बजट किसान रेल चलाने की घोषणा बजट में है। परतापुर में रेलवे साइडिंग पहले से ही है। सिटी स्टेशन के पार्सल घर में काफी मात्रा में स्पेस है। मेरठ में ऐसी आधारभूत सुविधाएं होने और दिल्ली के पास होने से यहा से सब्जी, फल और अन्य कृषि उत्पादों का परिवहन की अपार संभावनाएं हैं। यहां के उत्पादों को दिल्ली भेजने और बाहर से खाद्यान्न और अन्य वस्तुएं मंगाना सुगम हो जाएगा। बतातें चलें यह प्रोजेक्ट पीपीपी माडल पर तैयार होगा। इसमें मुख्य ट्रेनों में रेफ्रिजरेटेड कोच लगाए जाएंगे जिससे सब्जियां और खाने पीने की वस्तुएं खराब न हो।

तेजस ट्रेन

रेल बजट में पर्यटन स्थलों से जोड़ने के लिए तेजस ट्रेनें चलाने की घोषणा की गई है। दिल्ली से हरिद्वार, देहरादून रूट पर ट्रेने वाया मेरठ हो कर जाती हैं। केंद्र सरकार पहले ही बद्रीनाथ केदारनाथ को पर्यटन की ृदृष्टि से विकसित करने के लिए बड़ी योजनाओं पर काम कर रही है। देहरादून मेंअत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त स्टेशन का निर्माण चल रहा है। ऐसे में मेरठ से गुजरने वाली तेजस ट्रेन चल सकती है। सिटी स्टेशन के अधीक्षक आरपी शर्मा ने बताया कि स्पेशल ट्रेन के चलने से दिल्ली ही नहीं लंबी दूरी के स्टेशनों के बीच लगने वाला समय मेरठ से कम हो जाएगा।

रेलवे ट्रैक के किनारे सोलर प्लांट

बजट में रेलवे की खाली भूमि पर सोलर प्लांट लगाने की घोषणा की गई है। मेरठ सिटी स्टेशन की इमारत की छत में फिलहाल 250 किलोवाट का सोलर सिस्टम लगाने का कार्य पिछले एक साल से चल रहा है। इस घोषणा से इसके जल्द पूरा होने की संभावना है।

यह है मेरठ में पहले से

- बजट में 550 स्टेशनों को वाई फाई से जोड़ने की घोषणा की गई है। सिटी स्टेशन और कैंट स्टेशन पर यह सुविधा पहले से है।

-2024 तक सभी ट्रेनें इलेक्ट्रिक से चलाने का प्रस्ताव है, दिल्ली मेरठ और शामली रूट का पहले से ही विद्युतीकरण हो चुका है।

नहीं पूरी हुई यह मांगे

- हस्तिनापुर को रेलवे लाइन से जोड़े जाने के मांग वर्षो पुरानी है। बजट में इस पर कोई प्रावधान नहीं है।

- मेरठ और दिल्ली सहारनपुर वाया मेरठ नई ईएमयू ट्रेन चलाने की बावत भी कोई घोषणा नहीं की गई हैं। दैनिक यात्रियों की यह मांग भी वर्षो से लंबित है। बजट पर टिकी रही उद्यमियों की नजर

मेरठ: केंद्रीय बजट को लेकर उद्यमियों ने खास तैयारी की थी। आइआइए हाल में सुबह 11 बजे बड़ी संख्या में उद्यमी टीवी पर बजट देखते नजर आए। एमएसएमई के प्रति बड़ी घोषणा का इंतजार करते नजर आए। बजट के मुख्य बिंदुओं को नोट भी किया। वहीं, रोडवेज स्थित चेंबर आफ कामर्स में उद्यमियों ने टीवी पर बजट देखा। पंकज गुप्ता, अतुल भूषण गुप्ता, अश्वनी गेरा, संजीव मित्तल, आरके जैन, सुरेंद्र प्रताप व रवि अग्रवाल समेत कई अन्य शामिल रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस