मेरठ, जागरण संवाददाता। UPTET 2021 News उप्र शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपी टीईटी) में साल्वर गैंग का भंडाफोड़ करते हुए एसटीएफ ने सरगना समेत तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है। इनमें मुख्य अभ्यर्थी और साल्वर भी शामिल है। ढाई लाख रुपये में सौदा तय हुआ था। एसटीएफ नोएडा की टीम ने कामयाबी हासिल की है। आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हो गया है।

बुलंदशहर निवासी अभ्यर्थी से पास कराने का ठेका
अपर पुलिस अधीक्षक (नोएडा) राज कुमार मिश्रा ने बताया कि यूपी टीइटी में सेंधमारी की काफी समय से सूचनाएं मिल रही थीं। इस पर टीम लगातार काम कर रही थी। पता चला कि बड़ौत निवासी एक युवक ने बुलंदशहर निवासी अभ्यर्थी से पास कराने का ठेका लिया है। रविवार को नौचंदी क्षेत्र में राम सहाय इंटर कालेज में परीक्षा चल रही थी। तभी टीम ने कार्रवाई करते हुए तीन आरोपितों को पकड़ लिया। उन्होंने बताया कि गैंग का सरगना मोनू प्रजापति निवासी पट्टी चौधरान बाबली रोड बड़ौत, अभ्यर्थी अनिल निवासी ख्याजपुर अशरफपुर थाना औरंगाबाद बुलंदशहर और साल्वर राजा तोमर निवासी गंगूाखेड़ी थाना रमाला बागपत को गिरफ्तार किया। राजा तोमर परीक्षा दे रहा था, जबकि सरगना और अभ्यर्थी सेंटर के बाहर ही मौजूद थे। साल्वर के परीक्षा देने के बाद तीनों को दबोच लिया गया। तीनों के खिलाफ नौचंदी थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने उनको गिरफ्तार कर लिया है। वहीं, इससे पहले एसटीएफ मेरठ भी परीक्षा में सेंधमारी करने के मामले में शामली और बागपत से 10 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है।

ढाई लाख रुपये में हुआ था सौदा

अपर पुलिस अधीक्षक ने बताया कि मोनू प्रजापति से करीब छह साल पहले अनिल की मुलाकात हुई थी। 2016 में मोनू ने अनिल से रेलवे की ग्रुप डी की परीक्षा करने के लिए ढाई लाख रुपये लिए थे, लेकिन सफलता नहीं मिली थी। अब उन्हीं रुपयों में मोनू यूपी टीइटी की परीक्षा करा रहा था। इस दौरान एसटीएफ ने तीनों को दबोच लिया। उनके अन्य साथियों की तलाश भी एसटीएफ कर रही है। पूछताछ में तीनों ने महत्वपूर्ण जानकारी भी टीम को दी है। 

Edited By: Taruna Tayal