मेरठ,जागरण संवाददाता। मेरठ में परीक्षितगढ़ थाना क्षेत्र के गांव खानपुर बांगर के जंगल में किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है। आरोपित किशोरी के पिता के पास आता जाता था और इसी का फायदा उठाकर उसे ले गए। उक्त मामले में शुक्रवार को एक नामजद समेत तीन के खिलाफ पीड़िता के पिता ने रिपोर्ट दर्ज कराई है।

बहलाकर ले गए थे

मवाना निवासी एक व्यक्ति गाड़ी चालक है। उसके साथ ही परीक्षितगढ़ थाने के गांव खानपुर बांगर निवासी अरबाज पुत्र नासिर भी रहता था। जिसके चलते उसका घर पर आना जाना था। गत दिवस अरबाज किशोरी को बहला फुसलाकर खानपुर ले गया जहां आरोपित ने अपने दो साथियों के साथ मिलकर दुष्कर्म किया। उक्त मामले की जानकारी मिलने पर किशोरी को लेकर परीक्षितगढ़ थाने गए लेकिन प्राथमिकी दर्ज नहीं हुई। आखिर पीड़िता के पिता की तहरीर पर शुक्रवार पुलिस ने आरोपित व उसके दो साथी नाम पता अज्ञात के खिलाफ पास्को एक्ट समेत अन्य धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की है। इंस्पेक्टर मवाना धर्मेंद्र सिंह राठौर का कहना है कि किशोरी को मेडिकल कराकर आशा ज्योति केंद्र में रखा गया है। हालांकि मेडिकल रिपोर्ट व बयानों के बाद स्पष्ट होगा मामला क्या है। अभी ज्यादा कुछ कहना ठीक नहीं है।

दुष्‍कर्म की शिकार युवती की कराई डाक्टरी

मेरठ के मोदीपुरम में पल्लवपुरम के दुल्हैड़ा चौहान गांव में बरेली निवासी संप्रदाय विशेष की एक युवती संग हुए सामूहिक दुष्‍कर्म के प्रकरण में पुलिस ने शुक्रवार को पीडि़ता की डाक्टरी कराई है। डाक्टरी की रिपोर्ट करीब तीन दिन पुलिस को मिलेगी। वहीं पीडि़ता ने पुलिस से कहा कि उसको आरोपित पक्ष से खतरा बना हुआ है। बरेली निवासी संप्रदाय विशेष की एक युवती ने पल्लवपुरम थाना क्षेत्र के दुल्हैड़ा चौहान गांव निवासी राष्ट्रीय युवा हिंदू वाहिनी की राष्ट्रीय संगठन मंत्री मीनाक्षी चौहान, मीनाक्षी का देवर अजय चौहान और बेटा अनिकेत चौहान के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था।

वीडियो वायरल की धमकी

आरोप था कि अजय और अनिकेत ने दुल्हैड़ा गांव के घर में नशीली कोल्डड्रिक पिलाकर उसके साथ सामूहिक दुष्‍कर्म किया था। होश आने पर मीनाक्षी चौहान से शिकायत की तो उसने शांत की धमकी दी थी। साथ ही वीडियो वायरल करने की भी धमकी दी। इस बीच लाखों रुपये भी पीडि़ता से ठग लिए गए। इस प्रकरण में आरोपित मीनाक्षी ने अपने और देवर व बेठे के ऊपर लगे आरोप झूठे बताए थे। इंस्पेक्टर देवेश कुमार शर्मा ने बताया कि पीडि़ता अपने अधिवक्ता संग आई थी। महिला पुलिसकर्मी को भेजकर पीडि़ता की डाक्टरी करा दी गई है, तीन दिन बाद रिपोर्ट आने पर बयान भी दर्ज होंगे।

Edited By: Prem Dutt Bhatt