सहारनपुर, जागरण संवाददाता। आजाद समाज पार्टी के नेता चंद्रशेखर आजाद ने प्रदेश में अकेले दम पर चुनाव लड़ने का एलान कर दिया है। इससे जिले की सियासत गर्मा गई है। भाजपा और आरएसएस से लड़ाई की बात कहने वाले चंद्रशेखर की इस घोषणा का प्रभाव जिले की किन-किन सीटों पर और अन्‍य दलों के उम्‍मीदवारों पर कितना पड़ेगा ? इस सवाल को लेकर राजनीतिक पंडितों में मंथन शुरू हो गया है। 

आजाद समाज पार्टी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने नोएडा में प्रेस कांफ्रेंस करके एलान किया कि वे यूपी में अकेले दम पर चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि हम परिवर्तन की लड़ाई लड़ रहे हैं। सपा प्रमुख अखिलेश यादव पर कटाक्ष करते हुए कहा कि जो अपनी बात से पलटते हैं, वो धोखा करते हैं। अखिलेश यादव की मुझसे 25 सीटों पर वार्ता हुई थी। हालांकि चंद्रशेखर ने साफ किया कि स्वामी प्रसाद मौर्या जहां से लड़ेंगे, वहां वह प्रत्याशी नहीं उतारेंगे। उन्होंने कहा कि उनकी लड़ाई भाजपा और आरएसएस से है।

इन सीटों पर बताया मजबूत 

चंद्रशेखर ने कहा हम युवा हैं, बदलाव चाहते हैं। हम अपनी लिस्ट जारी कर चुनाव में उतरेंगे। हम परिवर्तन की लड़ाई लड़ रहे हैं। नकुड़, रामपुर, मनिहारन, सहारनपुर देहात, मुजफ्फरनगर शहर, हापुड़, आगरा साउथ, चंदौली, जखनिया, सिराथू, बलिया, मुबारकपुर, हस्तिनापुर, एत्मातपुर, खुर्जा, मेरठ कैंट, तिरुवा, नोएडा गंगोह समेत 33 सीटों पर हम मजबूत हैं। बड़े-बड़े दल जो अहंकार पर हैं वे तीसरे-चौथे नंबर पर रहेंगे। मेरी लड़ाई ईमानदारी की है। भाजपा को रोकने के लिए पूरी ताकत झोकेंगे।' 

जिले में सियासी दलों के समर्थक लगा रहे अपने-अपने अनुमान

चंद्रशेखर आजाद के एलान के बाद जिले में तमाम सियासी दलों के समर्थकों ने अपने-अपने अनुमान लगाने शुरू कर दिए हैं। एक सवाल यह भी है अकेले लड़ने का एलान करने वाले चंद्रशेखर की पार्टी किसी छोटे या बड़े दल से गठबंधन करेगी ? इसी के साथ उनके उम्‍मीदवारों के मैदान में होने पर किस पार्टी का नफा या और किसका नुकसान होगा। इसे लेकर भी चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है।

यह भी पढ़ें : आजाद समाज पार्टी प्रमुख चंद्रशेखर को कितना जानते हैं आप 

Edited By: Parveen Vashishta