मेरठ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड ने इस बार मूल्यांकन में सख्ती बरतनी शुरू कर दी है। मूल्यांकन में कोई गलती न हो और मूल्यांकन सही तरीके से किया जा सके इसलिए यूपी बोर्ड ने एक दिन में अधिकतम कॉपी जांचने की संख्या निर्धारित कर दी है। वर्ष 2020 के मूल्यांकन में परीक्षक हाई स्कूल में एक दिन में अधिकतम 50 उत्तर पुस्तिका और इंटरमीडिएट की अधिकतम 45 उत्तर पुस्तिका ही जांच सकेंगे। 

पहले ऐसा देखा गया है कि अधिक से अधिक कॉपियां जांच कर अधिक पारिश्रमिक लेने के चक्कर में परीक्षक ठीक से कॉपी देखते भी नहीं और मनमाना नंबर चढ़ाकर कॉपी आगे बढ़ा देते थे। इस चक्कर में हुई शिकायतों के बाद पिछले साल जांच करने पर कई उत्तर पुस्तिकाओं में मूल्यांकन में गलतियां मिली थी। इन गलतियों पर उच्च न्यायालय ने परीक्षकों पर 50-50 हज़ार रुपये जुर्माना तक लगाया था और यूपी बोर्ड को जवाब देना भारी पड़ गया था। इसीलिए परिषद मुख्यालय ने इस बार किसी भी तरह की गलती न हो इसलिए परीक्षकों को हर दिन उत्तर पुस्तिका जांचने की संख्या निर्धारित करते हुए इसका कड़ाई से अनुपालन करने को कहा है। 50-45 कॉपियां भी परीक्षकों को एक बार में नहीं दी जाएंगी। थोड़ी-थोड़ी करके कॉपी दो पालियों में दी जाएंगी और मूल्यांकन होने के बाद और कॉपियां दी जाएंगी।

परीक्षकों की कॉपियों का होगा पुनर्मूल्यांकन

मूल्यांकन प्रक्रिया सही तरीके से की जा रही है, इसको सुनिश्चित करने के लिए डिप्टी हेड एग्जामिनर अपने अंतर्गत टीम में शामिल सभी परीक्षकों की 10-10 कॉपियों का मूल्यांकन करेंगे। उनका काम मूल्यांकन के नियम के अनुसार कॉपी चेक की गई है कि नहीं, यह देखना होगा। मूल्यांकन में किसी भी तरह की गड़बड़ी या गलती मिलने पर संबंधित परीक्षक से जवाब तलब किया जाएगा और कॉपियों का पुनः मूल्यांकन किया जाएगा। अधिक गड़बड़ी पाए जाने पर संबंधित परीक्षक के खिलाफ कार्रवाई भी होगी। इस बाबत उप प्रधान परीक्षक 20:20 आदर्श उत्तर पुस्तिका मूल्यांकन करेंगे। उनके भी ऊपर आदर्श पुस्तिका लिखा होगा और उसी के अनुरूप अन्य परीक्षकों को कॉपियों का मूल्यांकन करना होगा।

मेरठ में बने हैं पांच मूल्यांकन केंद्र

यूपी बोर्ड परीक्षा 2020 के लिए जिले में इस बार 5 मूल्यांकन केंद्र बनाए गए हैं। अब तक जिले में दो हाई स्कूल व दो इंटरमीडिएट के मूल्यांकन केंद्र बनते रहे हैं। इस बार राजकीय इंटर कॉलेज मेरठ और राम सहाय इंटर कॉलेज गढ़ रोड में इंटरमीडिएट की कॉपियां मुक्यांकित होंगी। वहीं केके इंटर कॉलेज दिल्ली रोड, सनातन धर्म इंटर कॉलेज सदर और सेंट जोसेफ इंटर कॉलेज कैंट में हाई स्कूल की कॉपियां मूल्यांकित होंगी। इस बाबत परीक्षकों की नियुक्ति भी परिषद मुख्यालय की ओर से कर दी गई है। सेंट जोसेफ इंटर कॉलेज में 376 परीक्षक, के के इंटर कॉलेज में 464 परीक्षक, सनातन धर्म इंटर कॉलेज में 511 परीक्षक, राजकीय इंटर कॉलेज में 431 परीक्षक और राम सहाय इंटर कॉलेज में 597 परीक्षक नियुक्त किए गए हैं। मूल्यांकन प्रक्रिया 16 मार्च से शुरू होगी और 25 मार्च तक चलेगी। इस बार मूल्यांकन 10 दिनों में ही पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

Posted By: Taruna Tayal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस