मेरठ, जेएनएन। मेरठ शहर के मुख्य मार्गों किनारे रोड पटरी बनाना तो संबंधित विभाग भूल ही गए हैं। सड़क पर परत दर परत बढ़ती जा रही है और रोड पटरी नीची होती जा रही है। जिससे हादसे की संभावनाएं बढ़ गई हैं। यह हालात बिजली बंबा बाइपास रोड पर अधिक खतरनाक हो गए हैं। लेकिन जिम्मेदारों को यह नहीं दिख रहा है। बिजली बंबा बाइपास रोड पर इन दिनों कोहरे के बीच चलना खतरनाक है। अचानक सामने से कोई वाहन आ जाए तो एक से दो फीट गहरी रोड पटरी पर वाहन उतारना होगा। जो कार सवार या बाइक सवार के लिए हादसे का कारण बन सकता है।

सुरक्षित नहीं है आवागमन

दरअसल, शापरिक्स माल से लेकर बिजली बंबा बाइपास तक रोड के एक किनारे नहर है। दूसरी तरफ रोड पटरी का निर्माण नहीं हुआ है। सड़क ऊंची हो गई है और रोड पटरी पर कहीं तीन फीट गहरे गड्ढे हैं तो कहीं एक से दो फीट गहरी कच्ची रोड पटरी है। जिसमें वाहन उतारते समय पलटने का खतरा है। पिछले दिनों मुख्यमंत्री को मेरठ आना था। उनके कार्यक्रम में निर्धारित रूट यह भी था। नगर निगम ने बिजली बंबा बाइपास रोड की सफाई तो करा दी लेकिन पीडब्ल्यूडी विभाग ने अपनी जिम्मेदारी नहीं समझी। रोड पटरी कम से कम दो से तीन फीट चौड़ी अगर बन जाए तो इस रोड पर आवागमन सुरक्षित हो सकता है। लेकिन यह बात पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों को समझ नहीं आ रही है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021