मेरठ, जेएनएन । बुधवार देर रात आई आंधी-पानी ने बिजली का सिस्टम ध्वस्त कर दिया। कई स्थानों पर विद्युत लाइनों पर पेड़ गिर गए। कई विद्युत पोल टूट गए।जिसे सुधारने में दिनभर बिजली महकमा जूझता रहा। वहीं लोग दिनभर बिजली आने की राह देखते रहे। इधर, किसानों की फसल भी बारिश से काफी बर्बाद हुई है। जहां फसल नहीं कटी है वह तेज हवाओं से खेत में ही गिर गए। इसी तरह आम की फसल भी बुरी तरह प्रभावित हुई है।

जेलचुंगी इलाके में आंधी से पांच पेड़ अलग-अलग क्षेत्रों में बिजली लाइन पर गिरने से इस इलाके की आपूíत ठप रही। शताब्दी नगर में 33 केवी विद्युत लाइन के तार टूटकर गिर गए। जिसे जोड़ने बिजली महकमा करीब 12 घंटे बाद पहुंचा। शारदा रोड बिजली घर अंतर्गत बिजली लाइन फॉल्ट रही। सुपरटेक ग्रीन विलेज के पास बिजली लाइन टूटने से आपूíत ठप रही। नगरीय विद्युत वितरण मंडल के अधिकारियों ने गुरुवार सुबह पहले सभी लाइनों की पेट्रोलिग कराई। इसके बाद पेड़ों की कटाई कराकर उन्हें हटाया गया। नई बिजली लाइन डाली गई। कहीं पर मेंटीनेंस किया गया। बिजली घरों पर आए फॉल्टों को दुरुस्त किया गया।शहर के अधीक्षण अभियंता एके सिंह ने कहा कि शाम चार बजे तक सभी क्षेत्रों के फॉल्ट ठीक कर बिजली आपूíत बहाल कर दी गई। जेलचुंगी, शारदा रोड, मोहकमपुर, शताब्दी नगर, सिविल लाइंस, बच्चा पार्क, टीपी नगर, माधवपुरम आदि इलाकों में बिजली के लिए लोग परेशान रहे। गुरुवार की रात नौ बजे इन इलाकों में एक बार फिर बिजली गुल हुई जो आधे घंटे बाद बहाल हो गई।

--------------- कोटा से आया 26 हजार लीटर सोडियम हाइपो क्लोराइट

जागरण संवाददाता, मेरठ: कोटा राजस्थान की कंपनी श्रीराम लिमिटेड की ओर से नगर निगम को मुफ्त में सोडियम हाइपो क्लोराइट की सप्लाई कर दी गई।बुधवार देर रात टैंकर नगर निगम पहुंचा। अब नगर निगम के पास सैनिटाइजेशन के लिए केमिकल की कमी नहीं रहेगी। मालूम हो कि नगर आयुक्त डॉ. अरविद चौरसिया ने कंपनी के समक्ष कोरोना महामारी में मुफ्त में हाइपो क्लोराइट सोल्यूशन की डिमांड की थी। नगर आयुक्त ने बताया कि शहर में युद्ध स्तर पर सैनिटाइजेशन कराया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस