आज धुआं उगलना बंद कर देंगी मवाना चीनी मिल की चिमनियां

मेरठ, जेएनएन। मवाना चीनी मिल का पेराई सत्र 2021-2022 सोमवार रात समाप्त हो जाएगा। 200 दिनों पेराई सत्र में एक करोड़99लाख कुंतल गन्ना पेराई कर साढे सोलह लाख कुंतल चीनी और 3लाख कुंतल रा शुगर तैयार की। जबकि उक्त समय की रिकवरी रेसो प्रति कुंतल 10:03 रहा है। मवाना शुगर मिल का पेराई सत्र 2021-22 का आगाज 3 नवंबर को आरंभ हुआ था। हालांकि शुरू में गन्ने की आवक कम होने से सप्ताह भर एक यूनिट में गन्ने की पेराई हुई। जबकि बाद में बाद में बंद दोनों यूनिट भी चालू होकर पूरी क्षमता से एक लाख दस हजार कुंतल गन्ना प्रति दिन पेराई शुरू हो गई। करीब 200 दिनों के पेराई सत्र में मई माह के पहले सप्ताह से गन्ने की कमी शुरू हो गई। 156 क्रय केंद्र में अब मात्र 15क्रय केंद्रों पर गन्ने की आपूर्ति हो रही। जबकि रुक-रुककर मिल चलने के चलते दो यूनिट भी बंद कर दी। अब मात्र एक यूनिट ही चल रही और उसपर भी नोकेन की स्थिति आ गई है। मिल बंदी के लिए पहला नोटिस 13 मई और दूसरा 15 और तीसरा नोटिस 16 मई के लिए लगाया है। माना जा रहा 24 घंटे सत्र को चालू रखते हुए 17मई की रात करीब दस बजसे सत्र को पूरी तरह बंद कर दिया जाएगा। सोमवार 50हजार कुंतल गन्ना ही मिल पहुंचा चीनी मिल के वरिष्ठ महाप्रबंधक गन्ना एवं प्रशासनिक अधिकारी प्रमोद बालियान ने बताया कि क्रय केंद्रों पर गन्ना नहीं पहुंचे से 156 क्रय केंद्रों में से मात्र 15 केंद्र पर तौल चली। जबकि सोमवार को गेट व केंद्रों से मात्र 50 हजार कुंतल गन्ना ही पहुंचा। 17 मई को मिल रात दस बजे सत्र बंद कर दिया जाएगा। -मिल का केनयार्ड भी हुआ सूना गन्ना सीजन में चीनी मिल का केन यार्ड में गन्ने लदे वाहन-दूर तक नजर आते थे, लेकिन अब वही केन यार्ड सूना नजर आ रहा है। सोमवार को केन यार्ड में सन्नाटा पसरा नजर आया।

Edited By: Jagran