मेरठ, जेएनएन। अधिकारियों के आदेश और सीओ किठौर की फटकार के बाद भी बिजलीबंबा चौकी के हालात नहीं सुधरे हैं। हाजीपुर में हुए राशिद हत्याकांड में पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाकर पीड़ित स्वजन ने सीओ किठौर से शिकायत की थी कि चौकी पर सूचना देने के बाद यदि कार्रवाई होती तो उनका स्वजन की हत्या नहीं होती। सीओ ने बिजलीबंबा चौकी प्रभारी को फटकार भी लगाई थी। लेकिन इसका कोई असर नहीं हुआ। बुधवार को भी पीड़ित कार्रवाई की मांग को लेकर चौकी के चक्कर काटते रहे।

बुधवार को करीब 11 बजे बिजलीबंबा चौकी पर गाड़ी चालक समेत दो पुलिसकर्मी तैनात थे। चौकी प्रभारी की कुर्सी खाली थी। मेज पर उनकी पीकैप ही रखी थी। चौकी पर दो दारोगा तैनात हैं। लेकिन वह भी नदारद रहते हैं। चौकी पहुंची लोहियानगर निवासी रेहाना ने बताया कि वह एक माह से चक्कर काट रही है। लेकिन उसे चौकी प्रभारी नहीं मिलते। उसने बताया कि उसका मेरठ निवासी एक युवक ने उसका ट्रक चलाने के लिए लिया था। अब वह उसे नहीं दे रहा है।

वही, नरहेड़ा निवासी एक युवक ने बताया कि मंगलवार रात उसकी बेटी लापता हो गई। उसके खाते में सवा दो लाख रुपये थे। काजीपुर निवासी महिला को पति ने मारपीट करके घर से बाहर कर दिया। पीड़ित चौकी पर प्रभारी के इंतजार में बैठे थे।

उधर, बिजलीबंबा चौकी प्रभारी रोबिन सिंह ने कहा कि वह क्षेत्र में ड्यूटी के किसी काम से गए थे। दूसरे दारोगा भी विभाग के काम में लगे थे। पीड़ित व्यक्तियों के प्रार्थना पत्र लेकर जांच करके कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Jagran