मेरठ, जेएनएन : शासन में मेरठ की छवि अच्छी नहीं है। ऐसा माना जाता है कि यहां नगर निगम में कोई काम नहीं होता। मुख्य सचिव ने मुझसे कहा कि मेरठ कीचड़ से अटा हुआ है, जाकर उस शहर को दुरुस्त कराओ। यह बात नवनियुक्त नगर आयुक्त अरविंद कुमार चौरसिया ने कही। वह सोमवार को दोपहर सफाई एवं खाद्य निरीक्षकों व सफाई नायकों की मीटिंग ले रहे थे।

कार्यभार ग्रहण करने के तीसरे दिन नगर आयुक्त ने सफाई निरीक्षकों व सफाई नायकों की बैठक बुलाई। नगर आयुक्त ने कहा कि जो भी काम करें, वह दिखाई देना चाहिए। अगर काम नहीं होगा और निरीक्षण के दौरान कमियां मिलीं तो दिक्कत पैदा कर देंगे। शासन में मेरठ के प्रति पहले अच्छी धारणा थी, जो अब नहीं है। इसे सबसे गंदा शहर माना जाता है। कामकाज में बदलाव लाना होगा। ऐसा कहने वालों का मुंह बंद करना होगा। जो शहर आजादी के लिए क्रांति कर सकता है वह स्वच्छता के लिए क्यों नहीं कर सकता। इसलिए क्रांति वाला कदम उठाएं। गलियों में प्रतिदिन सफाई हो। नाले व नालियों की सिल्ट निकाली जाए। कूड़ा या सिल्ट सड़क पर न छोड़ा जाए। उसे फौरन हटा दिया जाए। बड़े नालों पर ज्यादा लोड है, इसलिए उनकी सफाई को प्राथमिकता दें। वह खुद सफाई नायकों से सीधी बात करेंगे, इसलिए लापरवाही नहीं होनी चाहिए। पार्षदों से भी समन्वय बनाकर रखें।

---

जैकेट पहनकर नहीं आते काटें सफाई कर्मियों का वेतन

नगर आयुक्त ने निर्देश दिया है कि सभी सफाई कर्मियों को लाल जैकेट दी गई होगी। सफाईकर्मी स्थायी हो या फिर आउट सोर्सिग का। जो जैकेट पहनकर सफाई नहीं करता है उसका वेतन रोक दें। हमेशा ऐसा करेगा तो विभागीय कार्रवाई की जाएगी। कहा कि सफाई के साथ ही सिस्टम के अनुसार भी कार्य करना है।

---

जैकेट व उपकरण पर इंस्पेक्टरों ने खोली पोल

नगर आयुक्त ने जब यह कहा कि सभी सफाई कर्मी लाल जैकेट व मास्क पहनकर और सभी उपकरण लेकर कार्य करेंगे। आयुक्त ने जैकेट आदि के वितरण के बारे में पूछा तब कहा गया कि सब वितरित कर दिया गया। इसी पर इंस्पेक्टर और सफाई नायकों ने विरोध शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि मास्क दिया गया है न ही जैकेट। उपकरण देना तो दूर जब उपकरण खराब हो जाता है तो उलटे उनसे ही पैसे मांगे जाते हैं। उपकरण की लिस्ट न देने को लेकर भी शोर-शराबा हुआ।

---

पूछा कौन से नाले और मोहल्ले हैं जलभराव वाले

नगर आयुक्त ने बैठक के दौरान यह पूछा कि कौन-कौन से ऐसे नाले हैं जिनकी सफाई की सबसे ज्यादा जरूरत है। किन मोहल्लों में जलभराव की समस्या ज्यादा है। उन्होंने सूची मांगी। डिपो प्रभारियों ने कुछ नाले और मोहल्लों की जानकारी भी दी।

---

दुकानदारो पर लगाएं पेनल्टी

नगर आयुक्त ने कहा कि स्वच्छता में सभी का सहयोग जरूरी है। अगर दुकानदार सड़क या नाली में कूड़ा फेंक देते हैं तो उन पर पेनल्टी लगाएं। पॉलीथिन के खिलाफ भी अभियान चलाएं। सात सफाई नायक का वेतन रोका

मेरठ : नगर आयुक्त ने सफाई निरीक्षकों, जोनल अधिकारियों व सफाई नायकों की बैठक की थी। इसमें कई सफाई नायक अनुपस्थित रहे। अनुपस्थित रहने वाले सात सफाई नायकों का वेतन देर शाम तक नगर आयुक्त ने रोकने का निर्देश दिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप