मेरठ, जागरण संवाददाता। तमंचे की गोली सिर में लगने से किशोर की मौत हो गई। स्वजन ने हत्या का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया। पुलिस ने तमंचा बरामद कर मृतक के बड़े भाई को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।

यह है मामला

लिसाड़ी गेट थाना क्षेत्र के आजाद नगर कालोनी निवासी उम्रदराज का 15 वर्षीय छोटा बेटा उवेस लिसाड़ी गांव में स्थिति एक कारखाने में काम करता था। शनिवार शाम वह काम से लौटने के बाद बड़े भाई सुहेल के साथ पास में स्थित प्लाट की बाउंड्री पर बैठकर मोबाइल में कुछ देख रहे थे। तभी गोली चलने की आवाज से अफरा-तफरी मच गई। उवेस लहूलुहान हालत में जमीन पर पड़ा था। स्वजन उसे लेकर जगदंबा अस्पताल पहुंचे जहां से मेडिकल कालेज रेफर कर दिया गया। मेडिकल कालेज में चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

पुलिस को जांच में मौके पर मिला तमंचा

स्वजन ने हत्या का आरोप लगाते हुए हंगामा किया। पुलिस ने घटनास्थल की जांच की तो पास में ही तमंचा मिल गया। सुहेल ने बताया कि भाई को छोड़कर वह पास में ही मूंगफली लेने गया था। आवाज सुनते ही वह वहां पहुंचा तो वह खून से लथपथ था। सीओ अरङ्क्षवद चौरसिया ने बताया कि संदिग्ध परिस्थितियों में चली गोली से किशोर की मौत हुई है। पूछताछ के लिए सुहेल को हिरासत में लिया गया है। जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

तीन दिन पहले जेल से छूटा था सुहेल

पुलिस को जांच में पता चला कि चोरी के मामले में परतापुर पुलिस ने सुहेल को जेल भेजा था। तीन दिन पहले ही वह जमानत पर छूटा है। वहीं, मोहल्ला निवासी इमरान का कहना है कि तमंचा सुहेल का ही है। दो दिन पहले सुहेल ने तमंचे को उनके बेटे पर तान दिया था। इस पर उन्होंने विरोध भी किया था।

खून का बदला खून

उवेस की मौत की सूचना जैसे ही स्वजन को मिली तो उन्होंने हंगामा कर दिया। मां रोते-रोते बेसुध हो रहीं थीं। रिश्तेदारों का कहना था कि उवेस की हत्या की गई है और खून का बदला खून से लिया जाएगा। हालांकि कोई यह नहीं बता पा रहा था कि हत्या किसने की। आसपास के लोगों व पुलिस ने स्वजन को शांत किया। देर रात तक तहरीर नहीं दी गई थी।

 

Edited By: Parveen Vashishta