जागरण संवाददाता, मेरठ। मेरठ परिक्षेत्र में पेराई सत्र 2021-22 के लिए सर्वे का काम तेजी से चल रहा था। हर जिलों को क्षेत्रीय सर्वे के आधार पर बांटा गया था। इस आधार पर गन्‍ना सर्वे का काम पूरा किया जा रहा था। अब मेरठ के सातों जिलों में यह कार्य पूर्ण हो गया है। गन्ना क्षेत्रफल में 2187 हेक्टेयर की वृद्धि आंकलन की गई है। केवल मेरठ में क्षेत्र पिछले के अपेक्षा घटकर इस बार 147916 रह गया है।

मेरठ परिक्षेत्र में गन्ना विभाग ने गन्ना सर्वे का कार्य पूर्ण कर लिया है। पेराई सत्र 2021-22 के लिए किए गए गन्ना सर्वे में मेरठ परिक्षेत्र के सात जनपदों में क्षेत्रफल 356964 हेक्टेयर निकलकर आया है। जबकि पिछले वर्ष 2020521 में यह 354777 था। परिणाम स्वरूप वर्तमान पेराई सत्र में गन्ना क्षेत्रफल में 2187 हेक्टेयर की वृद्धि आंकलन की गई है। हालांकि मेरठ में लगभग एक फीसद की कमी हुई है। मेरठ के अलावा बुलंदशहर व हापुड़ में मामूली रूप से गन्ना क्षेत्रफल घटा है। वहीं, बागपत अलीगढ़ और मथुरा में गन्ना क्षेत्रफल में वृद्धि दर्ज की गई है। मेरठ जिले में पिछले वर्ष गन्ना क्षेत्रफल 149557 हेक्टेयर था। जबकि इस बार 147916 रह गया है। इस सर्वे में गन्ने की पौधा व पेड़ी दोनों प्रजाति सम्मिलित हैं।

गन्ना सट्टा प्रदर्शन में त्रुटि ठीक कराएं किसान

जिला गन्ना अधिकारी डा. दुष्यंत कुमार ने बताया कि गन्ना सर्वे का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। यदि किसी किसान को अपने रकबा, गन्ना प्रजाति आदि किसी भी सर्वे संबंधित कार्य में संशोधन कराना है तो वह सट्टा प्रदर्शन में भाग लेकर त्रुटि को प्रस्तुत कर सकता है। 

Edited By: Himanshu Dwivedi