मेरठ, जेएनएन। इंटरनेशनल वेटलैंड दिवस के मौके पर शनिवार को हस्तिनापुर रेंज कार्यालय में बर्ड फेस्टिवल मनाया गया। स्कूली बच्चों और पक्षी प्रेमियों ने वेटलैंड पर दूर देशों से आए प्रवासी पक्षियों को देखा, तो वहीं विशेषज्ञों ने उनकी पहचान कराई। पेंटिंग से पर्यावरण संरक्षण का संदेश भी दिया गया। मुख्य वन संरक्षक व डीएफओ ने भी बच्चों को पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक करने का संकल्प दिलाया।
वन्य जीवों के प्रति जागरूक करें
मुख्य वन संरक्षक ललित वर्मा ने कहा कि बच्चों को चाहिए कि वे अपने परिजनों व परिचितों को वन्य जीवों की रक्षा के प्रति जागरूक करें। डीएफओ अदिति शर्मा ने कहा कि हस्तिनापुर वन सेंचुरी क्षेत्र प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण है। प्रवासी पक्षियों के साथ ही बारहसिंगा व अन्य जीवों के लिए भी यह सेंचुरी अनुकूल है। मखदूमपुर गंगा घाट पर घड़ियाल पुनर्विस्थापन परियोजना व कछुआ संरक्षण कार्यक्रम भी योजनाएं संचालित हैं।

ईको टूरिज्म पर चर्चा
प्रभारी रेंजर आइएफएस आकाशदीप बधावन ने वन्य जीव विहार में ईको टूरिज्म की अपार संभावनाओं की चर्चा की। डब्ल्यूडब्ल्यूएफ के शाहनवाज खान व अन्य पक्षी विशेषज्ञों ने बच्चों को विभिन्न जानकारी दी। रजपुरा ब्लाक स्थित प्राथमिक विद्यालय की शिक्षिका यतिका पुंडीर द्वारा लगाए गए हैंडक्राफ्ट के स्टाल की लोगों ने सराहना की।
कई स्कूलों के बच्चे पहुंचे
बर्ड फेस्टिवल पर शनिवार मेरठ और हस्तिनापुर के कई स्कूलों के बच्चे भी कुंड गांव स्थित झीलों के पास पहुंचे। वहां विचरण कर रहे प्रवासी व अप्रवासी पक्षियों को निहारा। पक्षियों को बच्चे अपने मोबाइल में कैद किए बिना नहीं रह पाए। इसके बाद वे रेंज कार्यालय में बने नेचर ट्रैक पर पहुंचे व जंगल का आनंद लिया। बच्चे ट्रैक पर चलते रहे और सेल्फी ली। इसके बाद ड्राइंग प्रतियोगिता में भाग लिया।
ये स्कूली बच्चे हुए पुरस्कृत
चित्रकला प्रतियोगिता में एवेन्यू पब्लिक स्कूल की वर्षा प्रथम, सेंट जेवियर पब्लिक स्कूल की दिव्यांशी द्वितीय व एवेन्यू पब्लिक स्कूल के सुंदरम ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। मुख्य अतिथि ने सभी विजेता प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया। सभी बच्चों को प्रमाण पत्र वितरित किए गए।

Posted By: Ashu Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस