मेरठ, [सुशील कुमार]। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अपराध की नर्सरी में फल-फूल रहे शातिरों के समूल नाश को शासन ने कमर कस ली है। इशारा मिलते ही फरार कुख्यातों की धरपकड़ को एसटीएफ ने जाल बिछा दिया है। सीएम योगी आदित्यनाथ के ऑपरेशन क्लीन में मेरठ के बदन सिंह बद्दो, हरीश, अंकित और आशु के नाम भी शामिल हैं। इसके लिए एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने मेरठ और नोएडा एसटीएफ को संयुक्त रूप से लगाया है।

बदन सिंह बद्दो

इनाम>>ढाई लाख

स्थान>>बेरीबाग टीपीनगर (मेरठ)

बदन सिंह बद्दो 28 मार्च 2019 को जेल से गाजियाबाद जाते वक्त मेरठ पुलिस कस्टडी से फरार हो गया था। उस समय पुलिस की टीम उसे लेकर दिल्ली रोड स्थित मुकुट महल होटल में पहुंची थी, जहां पर पुलिस को कोल्ड डिंक में नशीला पदार्थ पिलाकर फरार हो गया था। इस मामले में अभी तक बद्दो को भगाने में शामिल छह पुलिसकर्मी समेत 19 लोग जेल जा चुके हैं। बदन सिंह बद्दो से जुड़े हर शख्स पर कार्रवाई की जा रही है। उसे जमानतदार से लेकर शरण देने वालों तक की घेराबंदी की जा रही है। हालांकि उसके नेपाल के रास्ते मलेशिया में छिपने की आशंका जताई जा रही है।

-----------

हरीश बालियान

इनाम>>>>ढाई लाख

स्थान>>>>भौरा खुर्द

(मुजफ्फनगर)

मुजफ्फरनगर के भौराकलां थाने के गांव भौराखुर्द निवासी हरीश ने वर्ष 2004 में गांव की रंजिश के चलते पहली वारदात को अंजाम दिया था। उसके बाद हरीश अपराध की सीढ़ी चढ़ता गया। इसके खिलाफ हत्या, लूट और अपहरण जैसे 24 से अधिक मुकदमे दर्ज हैं। हरीश का उसके भाई आदेश ने भी खुलकर साथ दिया था। एक समय दोनों भाइयों का इतना आतंक रहा कि भौराकलां के लोग गांव से बड़ी संख्या में पलायन करने को मजबूर हो गए। डेढ़ साल पहले जानसठ में एसटीएफ ने आदेश को मार गिराया था। हरीश अभी भी पुलिस की पकड़ से दूर है।

----------

अंकित खैला

इनाम>>>>एक लाख

स्थान>> >>खैला चांदीपुर

(बागपत)

बागपत के कुख्यात अंकित खैला ने गांव के ही पूर्व प्रधान राजे के पुत्र विनोद की चुनावी रंजिश में चलते हत्या कर दी थी। इस मामले में अंकित खैला उर्फ बाबा समेत दो बदमाशों के नाम सामने आए थे। पुलिस ने अंकित की तलाश में घर की कुर्की का नोटिस भी चस्पा कर दिया। उसके बाद भी पुलिस अभी तक अंकित खैला को पकड़ नहीं पाई है। बागपत के अलावा भी अंकित खैला नोएडा, दिल्ली से वांछित है। पिछले ग्राम प्रधान चुनाव में अंकित ने गांव में निर्विरोध ग्राम प्रधान चुनने के लिए पंफलेट भी डाल दिए थे, जिससे गांव में दहशत का माहौल था।

----------

आशु जाट

इनाम>>>>ढाई लाख

स्थान>> काजीपुरा मसूरी (गाजियाबाद)

27 साल का आशु जाट उर्फ प्रवीण उर्फ धर्मेद्र मिर्ची गैंग का मुखिया है। वर्तमान में इस गिरोह के 20 सक्रिय सदस्य है। इनमें कुछ किशोर भी शामिल हैं। आशु जाट पर हत्या, लूट और कार चोरी के करीब 40 मुकदमे दर्ज हैं। उसकी पत्नी पूनम भी गैंग को सामान मुहैया कराती है। आशु जाट पर भाजपा नेता गौरव चंदेल की हत्या का आरोप है। उसमें पुलिस आशु की पत्नी पूनम को जेल भेज चुकी है। आशु पर ढाई लाख का इनाम घोषित होने के बाद भी पुलिस उसे पकड़ नहीं पा रही है। दरअसल, कुख्यात आशु जाट कभी भी मोबाइल फोन का प्रयोग नहीं करता है।

इनका कहना है

वेस्ट के बदन सिंह बद्दो, हरीश भौराकलां, आशु जाट, अंकित खैला को भी ऑपरेशन क्लीन में शामिल किया गया है। बदमाश पकड़ने को एसटीएफ के अलावा स्थानीय पुलिस भी काम कर रही है। इनकी बेनामी व अन्य संपत्ति की पड़ताल की जा रही है ताकि संपत्ति जब्त की जा सके। पुलिस उक्त बदमाशों के जमानतदारों से लेकर मिलने वालों पर भी कार्रवाई करने जा रही है।

- प्रशांत कुमार, एडीजी कानून-व्यवस्था

Posted By: Prem Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस