जागरण संवाददाता, मेरठ : एजुकेशन सोसायटी ऑफ सोफिया स्कूल कानूनी सलाह के बाद डिप्टी रजिस्ट्रार को जवाब देने की तैयारी कर रही है। स्कूल की ओर से सोसायटी के अजमेर स्थित मुख्यालय को सूचित कर दिया गया है। अगले सप्ताह मुख्यालय के पदाधिकारी मेरठ आ सकते हैं। इस बीच छात्राओं के साथ टूर पर गई स्कूल की प्रिंसिपल व सोसायटी की सचिव सिस्टर लूसी जैकब भी मेरठ लौट आएंगी। स्कूल प्रबंधन इस मामले में कानूनी कार्यवाही के दायरे में जवाब देने पर विचार कर रहा है।

डिप्टी रजिस्ट्रार फ‌र्म्स, सोसायटीज एंड चिट्स की ओर से की गई कार्रवाई पर दिए गए पिछले जवाब में स्कूल प्रबंधन का तर्क है कि वित्तीय अनियमितता के आरोप सही नहीं हैं। कुछ साल पहले हुई गलती को सुधारने के लिए दिशा-निर्देश भी मांगे थे लेकिन डिप्टी रजिस्ट्रार की तरफ से कोई जवाब नहीं मिला। यहां पढ़ रहीं करीब तीन हजार छात्राओं का भविष्य स्कूल से जुड़ा है।

स्कूल की सुपीरियर सिस्टर कैरन का कहना है कि अगले सप्ताह प्रिंसिपल के लौटने के बाद बच्चों के भविष्य को देखते हुए कानूनी कार्यवाही का सहारा लेंगे।

क्या है इस चार्जशीट के मायने

डिप्टी रजिस्ट्रार की ओर से एजुकेशन सोसायटी ऑफ सोफिया स्कूल को वित्तीय अनियमितता में दोषी मानते हुए सोसायटी के रजिस्ट्रेशन को रद करने के साथ निरस्त करने का आदेश जारी किया गया है। इस पर एडवोकेट विपिन सोढ़ी का कहना है कि वित्तीय मामला डिप्टी रजिस्ट्रार की कार्रवाई क्षेत्र में नहीं आता है। न वह सोसायटी का रजिस्ट्रेशन निरस्त कर सकते और न स्कूल बंद कर सकते हैं। एक दशक पुराने वित्तीय मामले में सीधे कोई कार्रवाई ईडी या आयकर विभाग की ओर से ही की जा सकती है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस