मेरठ, जागरण संवाददाता। दारोगा भर्ती परीक्षा में लगातार साल्वर गैंग की घुसपैठ ने सवाल खड़े कर दिए हैं। एक सप्ताह में ही दूसरी बार कोई साल्वर पकड़ा गया है। परीक्षा देने के लिए उसका सौदा चार लाख रुपये में तय हुआ था। पकड़े गए सिपाही को कुछ दिनों बाद अपनी भी दारोगा भर्ती की परीक्षा देनी थी।

दलाल से हुई थी बात

छह दिन पहले भी जानी पुलिस ने आइटीएम कालेज से दो साल्वर गैंग के सदस्यों को पकड़ा था। इनके अलावा कंकरखेड़ा पुलिस ने भी दो सदस्यों को पकड़ा था। अब एक बार फिर से जानी थाना पुलिस के हाथ एक आरोपित लग गया। पुलिस ने जब आरोपित से पूछताछ की तो बताया वह पुलिस में सिपाही है। उसकी बातचीत धर्मेंद्र नाम के दलाल से हुई थी। सौदा चार लाख रुपये में तय हुआ था। इस परीक्षा के बाद उसे खुद की भी परीक्षा देनी थी। उसका केंद्र गाजियाबाद में है। एसपी देहात केशव कुमार ने बताया कि आरोपित से पूछताछ चल रहा है। उसने कुछ नाम भी बताए हैं। मुख्य आरोपित धर्मेंद्र को बता रहा है, जो दलाल है। उसने ही पूरे सौदे की पठकथा लिखी थी। उसकी धरपकड़ का प्रयास किया जा रहा है।

एलआइयू के अफसर भी पहुंचे

परीक्षा देने आए सिपाही से देर रात तक पुलिस के अफसर भी पूछताछ करते रहे। मामले की जानकारी जब खुफिया विभाग को भी लगी तो उसके भी अधिकारी जांच के लिए पहुंचे थे। बताया गया कि आरोपित के पास से कुछ कागजात भी मिले हैं, जिनकी सच्चाई के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।

सख्ती में खुल रही पोल

एसपी देहात ने बताया कि इस बार परीक्षा के दौरान काफी सख्ती की जा रही है। केंद्रों के बाहर पुलिस के अधिकारी खड़े रहे हैं। किसी को भी रोककर जांच की जाती है, इसलिए लगातार साल्वर गैंग के सदस्य पकड़ में आ रहे हैं। पहले भी पकड़े जा चुके सदस्यों से भी महत्वपूर्ण जानकारी हाथ लगी है। जल्द ही मुख्य व्यक्ति को भी दबोच लिया जाएगा।

Edited By: Prem Dutt Bhatt