मेरठ, जेएनएन। मिलावटी पेट्रोल प्रकरण के मामले में 2 दिवसीय भ्रमण पर निकली शासन की एसआईटी ने मेरठ पहुंच कर जांच शुरू कर दी है। गोपनीय तरीके से की जा रही जांच में अफसरों से लेकर आरोपितों तक बयान दर्ज करने का कर्म शुरू हो गया है। एसआइटी की टीम सभी को पीएचसी 6 वाहिनी के गेस्ट हाउस में बुलाकर बयान दर्ज कर रही है।

यह था मामला

आइजी आलोक सिंह के आदेश पर मेरठ वेदव्यासपुरी में पारस केमिकल और देवपुरम में गणपति पेट्रोकैम पर छापा मारा गया था। पारस केमिकल से पुलिस ने चार और गणपति पेट्रोकैम से छह आरोपित गिरफ्तार किए थे। उनके कब्जे से 2.20 लाख लीटर नकली पेट्रोल बरामद किया। तीन किलो रंग और एक कैंटर भी पकड़ा गया। परतापुर थाने में मुकदमा दर्ज कर उन्हें जेल भेज दिया गया। छानबीन में पता चला कि पकड़े गए आरोपित राजीव जैन पुत्र श्रीपाल जैन निवासी महावीर नगर टीपीनगर के दो पेट्रोल पंप पर मिलावटी पेट्रोल बेचा जा रहा था। सोमवार को शासन की एसआईटी मैं एडीजी बीएफ शिरोडकर एसटीएफआई जी अमिता यस और खाद्य आयुक्त मनीष चौहान मेरठ पहुंचे। पुलिस और प्रशासन की टीम उनकी देखरेख में लगाई गई है। सभी अधिकारियों को पीएससी वाहिनी 6 के गेस्ट रूम में रोका गया है। वहीं पर सभी अफसर पूरे मामले की जांच पड़ताल कर रहे हैं।  

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021