मेरठ, जेएनएन। विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर हर स्तर पर प्रक्रिया पूरी की जा रही है। ऐसे में सबसे अधिक परेशानी चुनाव संपन्न कराने के लिए अधिकारी व कर्मचारियों की ड्यूटी लगाने को लेकर आती है। लेकिन इस बार कुछ ऐसे भी लोग सामने आए हैं, जो खुद चुनाव में ड्यूटी करने को लेकर उत्साहित हैं और खुद कार्यालय पहुंचकर चुनाव संपन्न कराने में जिम्मेदारी देने का आग्रह कर रहे हैं।

चुनाव संपन्न कराने के लिए सबसे अधिक कर्मचारियों की जरूरत होती है। लेकिन पंचायत चुनाव में हुए हाल को देखते हुए बड़ी संख्या में अधिकारी व कर्मचारी चुनाव ड्यूटी से खुद को दूर करने के जतन तलाश रहे हैं। हर दिन विकास भवन में दर्जन विभिन्न विभागों के कर्मचारी तमाम बहाने बनाकर ड्यूटी हटवाने की गुहार लेकर पहुंच रहे हैं। इन सब के बीच कुछ ऐसे भी कर्मचारी व अधिकारी हैं जो चुनाव को लेकर उत्साह में हैं और खुद ड्यूटी लगाने का आग्रह लेकर आगे आए हैं। गुरुवार को लोक निर्माण विभाग के दो कर्मचारी विकास भवन पहुंचे और विधानसभा चुनाव संपन्न कराने में जिम्मेदारी देने का आग्रह किया। इससे पहले बेसिक शिक्षा के शिक्षक भी चुनाव में ड्यूटी लगाने का आग्रह कर चुके हैं। बुधवार को मेरठ कालेज के कुछ प्रोफेसर भी विकास भवन पहुंचे थे। प्रोफेसर ने अपने पद के अनुरूप जिम्मेदारी देने का आग्रह किया। प्रोफेसर ने कहा कि उन्हें चुनाव संपन्न कराने से कोई परेशानी नहीं है और न ही वह अपनी ड्यूटी हटवाने के लिए आए हैं। सीडीओ शशांक चौधरी ने बताया कि कुछ लोग ही ऐसे हैं जो ड्यूटी करना नहीं चाहते। जबकि अधिकांश कर्मचारी व अधिकारी चुनाव संपन्न कराने के लिए तैयार और उत्साह में है।

Edited By: Jagran