मेरठ, जेएनएन। पल्लवपुरम थाने से महज पांच सौ मीटर की दूरी पर एक मकान के बाहर राइफल से चली गोलियों की तड़तड़ाहट से सनसनी फैल गई। पूर्व प्रधान के ससुर ने छत से निशाना लगाकर चार राउंड फायर किए। इसमें पूर्व प्रधान समेत उसका भतीजा और दोस्त गोली लगने से घायल हो गए। दो गोलियां दरवाजे और दीवार में भी धंसी हैं। पुलिस ने दो हमलावरों को गिरफ्तार कर राइफल व तीन खोखे भी बरामद किए हैं।

पुलिस के मुताबिक, सरसवा गांव के पूर्व प्रधान पवन अपनी पत्नी गरिमा और बेटी के साथ फेज-दो स्थित पाकेट एनएच-48 में रहते थे। दंपती के बीच क्लेश बढ़ा तो दोनों अलग-अलग रहने लगे। करीब दस वर्ष से दंपती के बीच कोर्ट में विवाद चल रहा है। कुछ महीने पूर्व कोर्ट ने गरिमा को पति के मकान में रहने के आदेश दिए थे। आरोप है कि गरिमा अपने साथ पिता सुभाष निवासी दोघट बागपत, बहन पल्लवी और भाई विश्वास को लाकर रहने लगी। पति को घर से निकाल दिया। वह अपने गांव सरसवा में रहता है। सुभाष सरूरपुर इंटर कालेज में अध्यापक है। गुरुवार को पवन अपनी मां, भतीजे अजीत और दोस्त गोलू के साथ बातचीत के लिए अपने घर फेज-दो में पहुंचे। वहां गरिमा और उसके पिता व स्वजन ने गाली-गलौच करते हुए मारपीट कर दी। इसके बाद ससुर सुभाष मकान की छत पर पहुंचा और अपनी लाइसेंसी राइफल से ताबड़तोड़ चार राउंड फायर किए। इसमें पूर्व प्रधान समेत उनका भतीजा और दोस्त गोली लगने से घायल हो गए। पुलिस को देखकर भाग रहे हमलावर सुभाष और साले विश्वास को पुलिस ने गिरफ्तार कर राइफल बरामद कर ली। आरोपित गौरव और सूरज भाग गए। पुलिस ने मौके से 315 बोर के तीन खोखे भी बरामद किए हैं। तीनों घायल जिला अस्पताल में भर्ती हैं। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। इनका कहना है

दंपती के बीच कोर्ट में विवाद चल रहा है। पत्नी अपनी ससुराल के मकान में मायके वालों के संग रह रही थी, और पति किराए पर रहता है। ससुर ने लाइसेंसी राइफल से गोली चलाई। घायल तीनों की हालत सामान्य है। दो आरोपित गिरफ्तार हैं।

विनीत भटनागर, एसपी सिटी।

Edited By: Jagran