मेरठ, जेएनएन। अंतरराष्ट्रीय शूटर सौरभ चौधरी ने एक बार फिर अपने प्रदर्शन से निशानेबाजी से जुड़े हर व्यक्ति को, हर खिलाड़ी को, हर कोच को और चयनकर्ताओं को चौंका दिया है। दिल्ली में चल रहे नेशनल व वर्ल्ड कप ट्राइल्ज में सौरभ ने अपना ही पिछले साल का रिकॉर्ड तोड़ते हुए नया रिकॉर्ड स्थापित कर दिया है। इतना ही नहीं उन्होंने अब तक दर्ज वर्ल्ड रिकॉर्ड को भी पीछे छोड़ कर प्रदर्शन किया है। उनके प्रदर्शन की वाहवाही हर जगह हो रही है लेकिन अफसोस सिर्फ इतना रह जाएगा कि सौरभ चौधरी का यह कीर्तिमान नेशनल रिकॉर्ड या वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज नहीं हो पाएगा।

ऐसा इसलिए क्योंकि उनका यह प्रदर्शन किसी राष्ट्रीय चैंपियनशिप या शूटिंग की वर्ल्ड कप या वर्ल्ड चैंपियनशिप में नहीं बल्कि नेशनल के लिए चल रहे ट्रायल में देखने को मिला है। सौरभ को जानने वाले ऐसा मानते हैं कि यह कीर्तिमान सौरभ के लिए कोई बड़ी बात नहीं है। यह उनका सामान्य दिन और सामान्य प्रदर्शन था जिसे उन्होंने पूरा किया और आगे बढ़ गए। सौरभ दिल्ली में चल रही दो दिवसीय ट्रायल प्रतियोगिता में आज भी हिस्सा ले रहे हैं। शनिवार के प्रदर्शन पर भी खास नजर रहेगी, क्योंकि शुक्रवार को ही सौरभ ने नया कीर्तिमान स्थापित किया है।

अपने रिकॉर्ड संग पछाड़ा वर्ल्ड रिकॉर्ड भी

दिल्ली के डॉ कर्णी सिंह शूटिंग रेंज में चल रहे ट्रायल में शुक्रवार को सौरभ चौधरी ने 600 में 590 शॉट लिया। यह शॉट सौरभ के 2018 के नेशनल रिकॉर्ड 587 से ज्यादा था। सौरभ का स्कोर 246.9 रहा जो उनके 2019 के राष्ट्रीय प्रतियोगिता के फाइनल में बनाए रिकॉर्ड से 0.5 अधिक है। इतना ही नहीं सौरभ चौधरी ने अपने प्रदर्शन से 2019 के वर्ल्ड रिकॉर्ड को भी पीछे छोड़ दिया है। 10 मीटर एयर पिस्टल शूटिंग में पिछले साल कोरियाई निशानेबाज किम सोंग गुक ने 246.5 स्कोर किया था और इसके साथ ही उन्होंने वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था। सौरभ ने इस रिकॉर्ड को भी पीछे छोड़ कर अपना प्रदर्शन दर्ज कराया है और यह कीर्तिमान अपने नाम किया है।

सौरभ को प्रभावित नहीं करता कोई रिकॉर्ड

सौरभ के कोच अमित शेरोन उन्हें छोटी उम्र से ही शूटिंग का प्रशिक्षण कराते आ रहे हैं। अमित शेरोन का कहना है कि सौरभ कभी भी किसी भी तरह के रिकॉर्ड की ना तो चिंता करते हैं ना ही उसके लिए परेशान होते हैं। सौरभ के लिए उनका सामान्य शॉट ही दुनिया के लिए बेहतरीन प्रदर्शन बन जाता है। अमित के अनुसार सौरभ कभी किसी रिकॉर्ड को देखकर नहीं खेलते। अभी तक के उनके प्रदर्शन से हम आश्वस्त हैं कि सौरभ देश के लिए ओलंपिक पदक लाएंगे। टोक्यो ओलंपिक में पहले ही सौरभ ने कोटा हासिल कर लिया है। अगर कोविड के कारण पूरा साल बंद न रहा होता तो ओलंपिक पदक लाने की खुशी अब तक हमें मिल चुकी होती। अमित का कहना है कि सौरभ केवल टोक्यो ओलंपिक ही नहीं बल्कि आगे के ओलंपिक में भी भारत का नाम जरूर रोशन करेंगे।

पूरे लॉकडाउन में करते रहे अभ्यास

सौरभ चौधरी के कोच अमित शेरोन के अनुसार लॉकडाउन के दौरान जब पूरी दुनिया घरों में बंद थी तो सौरभ अपने मेरठ स्थित घर पर हर दिन घंटो अभ्यास किया करते थे। बिना वजह घर से बाहर घूमना फिरना सौरभ को वैसे भी पसंद नहीं है। ऐसे में उन्होंने अपने घर में ही बने शूटिंग टारगेट के साथ सबसे ज्यादा समय बिताया है। पूरे साल सौरभ ने अपने सामान्य शूटिंग अभ्यास के दौरान भी यही स्कोर बनाए हैं, जिसे आज उनके ही रिकॉर्ड को तोड़ने वाला व वर्ल्ड रिकॉर्ड को तोड़ने वाला बताया जा रहा है। अमित के अनुसार सौरभ की क्षमता को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि यह रिकॉर्ड उनके लिए कुछ भी नहीं है। आने वाले दिनों में ऐसे कई और रिकॉर्ड सौरभ तोड़ेंगे और नए बनाएंगे भी। शनिवार को चल रहे ट्रायल में सौरभ के साथ उनके भाई नितिन भी दिल्ली में ही हैं। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021