शामली, जागरण संवाददाता। चौसाना पुलिस चौकी की हवालात से भागे दोनों आरोपित बीस-बीस हजार का इनाम घोषित होते ही पुलिस की गिरफ्त में आ गए। दोनों आरोपितों को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उन्‍हें जेल भेज दिया गया। हालांकि फरार होने के दौरान उन्‍हें चाबी कैसे मिली ? पुलिस के लिए यह बड़ा सवाल बना है।  

गिरफ्तारी के लिए लगी थीं चार टीमें 

एसएसपी अभिषेक ने शुक्रवार को अपने कार्यालय में आयोजित प्रेसवार्ता में बताया कि बुधवार की रात चौसाना चौकी पर तैनात दारोगा गजेंद्र सिंह ने लूट की योजना बनाने के आरोप में गुफरान निवासी चौसाना व रहीस उर्फ काला निवासी नागल जिला सहारनपुर को छुरी के साथ गिरफ्तार किया था। दोनों आरोपितों को चौसाना चौकी की हवालात में बंद किया गया था। गुरुवार तड़के ड्यूटी पर तैनात सिपाही योगेंद्र की लापरवाही से दोनों आरोपित भाग गए थे। जिनकी गिरफ्तारी के लिए चार टीमें लगाई थीं। साथ ही दोनों आरोपितों पर 20-20 हजार रुपये का इनाम घोषित किया था। 24 घंटे के अंदर दोनों आरोपितों को एसओजी और झिंझाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। उन्होंने बताया कि लापरवाही बरतने वाले सिपाही योगेंद्र के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया गया है।हवालात का ताला कैसे खुला, सीओ कैराना कर रहे हैं जांच

हवालात से फरार मामले की जांच सीओ कैराना अमरदीप मौर्य कर रहे हैं। फरारी में पुलिस की लापरवाही मानी जा रही है। प्रेसवार्ता में जब पूछा गया कि हवालात का ताला खोलने के लिए आरोपितों को चाबी कैसे मिली ? इस पर एसएसपी ने बताया कि सीओ पूरे मामले की जांच कर रहे हैं। आरोपितों को किसने चाबी दी या फिर लापरवाही के चलते चाबी को हवालात के गेट के पास रखा गया था। जांच में ये सभी बिंदु शामिल हैं। जांच रिपोर्ट आने पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Parveen Vashishta