मेरठ । 25 लाख की रंगदारी नहीं देने पर कुख्यात सलमान सैफी ने सर्राफ शाहनवाज के घर धावा बोल दिया। पिस्टल से शाहनवाज पर वार करते हुए ज्वैलरी छीनने की कोशिश की। शाहनवाज और उनके भाई आमीर ने सलमान को पकड़कर पिस्टल छीन लिया। दोनों भाईयों के कब्जे से छूटकर सलमान अपने साथियों के साथ भाग गया। पूरी घटना सीसीटीवी में कैद हो गई है। घटना के बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामले की पड़ताल शुरू कर दी।

देहलीगेट के खैर नगर में स्टेट बैंक वाली गली में रहने वाले सर्राफ शाहनवाज की नील गली में जीआर ज्वैलर्स के नाम से शोरूम है। रोजाना की तरह बुधवार को भी शाहनवाज शोरूम बंद करने के बाद घर लौट रहा था। घर के दरवाजे पर पहले से ही धोबी वाला छत्ता निवासी सलमान सैफी अपने साथियों के साथ खड़ा था। शाहनवाज के घर में प्रवेश करते हुए सलमान ने उस पर पिस्टल तान दिया। साथ ही ज्वैलरी से भरा बैग लूटने की कोशिश की। शाहनवाज के शोर मचाने पर उसका भाई आमिर भी आ गया है। दोनों भाईयों ने सलमान की घेराबंदी कर ली। सलमान के हाथ से पिस्टल भी छीन लिया गया। दोनों के कब्जे से सलमान मौका पाकर अपने साथियों के साथ भागने में कामयाब हो गया। सूचना के बाद पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। सीसीटीवी में पूरा घटनाक्रम कैद हो गया है। पुलिस ने सीसीटीवी कब्जे में लेकर हमलावर सलमान की तलाश शुरू कर दी है।

शाहनवाज की हत्या करने आया था सलमान

मेरठ : सलमान 2016 में भी हत्या के मामले में जेल जा चुका है, जो जमानत पर छूट कर बाहर आया है। लगातार शाहनवाज पर 25 लाख की रंगदारी के लिए दबाव बना रहा था। फोन पर भी उसने शाहनवाज को जान से मारने की धमकी दी थी। शाहनवाज ने मामले की जानकारी पुलिस को दी। पुलिस पूरे मामले को अनसुना करती रही। अभी तक रंगदारी का मुकदमा तक दर्ज नहीं किया था। पुलिस की लापरवाही के चलते ही सलमान पिस्टल लेकर हमला करने पहुंच गया था।

भाई की पैरवी के लिए मांग रहा था रंगदारी

याद कीजिए, नौ दिसंबर 2016 की शाम सात बजे, जब खैर नगर निवासी बसपा नेता नासिर की घर के बाहर ही गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस हत्याकांड ने पूरे शहर को हिलाकर रख दिया था। हत्या को अब्दुल वाजिद उर्फ गुड्डू के बेटे रहमान सैफी, सलमान सैफी और शारिक सैफी ने अंजाम दिया था। आक्रोशित भीड़ ने गुड्डू के घर को भी आग लगा दी थी, जिसके चलते खैर नगर में अराजकता का माहौल बन गया था। पुलिस ने बामुश्किल मामले को संभाला था। इस हत्याकांड में पुलिस तीनों भाईयों को जेल भेज चुकी है। सलमान और शारिक जमानत पर बाहर आ चुके है, जबकि रहमान अभी जेल के अंदर है। बताया जा रहा है कि रहमान को जेल से बाहर निकालने के लिए पैरवी के लिए सलमान रंगदारी मांग कर रकम एकत्र कर रहा है। वह अन्य कई दुकानदारों से भी रंगदारी मांग चुका है। शाहनवाज पर भी रंगदारी का दबाव बना रहा था।

खौफ में था परिवार, बेखबर थी पुलिस

मेरठ : तीन दिन पहले अनजान नंबर से सलमान ने कॉल कर 25 लाख की रंगदारी मांगी थी। रकम नहीं देने पर गोली मारने की धमकी दी थी। शाहनवाज ने मामले की जानकारी देहलीगेट पुलिस को दी। पुलिस पूरे मामले को अनसुना करती रही। उसी का नतीजा है कि सलमान बेखौफ होकर शाहनवाज पर हमला करने आ गया है। रंगदारी की कॉल आने के बाद शाहनवाज का परिवार खौफ में था। बच्चों का भी स्कूल जाना बंद कर दिया था।

12 लाख के पिस्टल से करने आया था हमला

मेरठ : सलमान के कब्जे से बरामद पिस्टल की कीमत 12 लाख बताई जा रही है। पुलिस जांच कर रही है कि सलमान उक्त पिस्टल कहां से लाया था। एसपी सिटी अखिलेख नारायण ने बताया कि वीडियो में सलमान से पिस्टल छीनते हुए दृश्य दिखाई दे रहा है। सलमान की धरपकड़ को पुलिस की टीम लगा दी गई है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप