मेरठ (ओम बाजपेयी)। कर्ज नहीं लौटाने पर हिमांशु पुरी के होटल को नीलामी के लिए रिलायंस कैपिटल ने उसकी सुरक्षित कीमत 19.50 करोड़ निर्धारित की थी। शास्त्रीनगर स्थित कोठी का नीलामी में रिजर्व प्राइज 1.10 करोड़ रुपये दर्ज था। कंपनी के दिल्ली के फ्रेंडस कालोनी स्थित कार्यालय में दो मई को बोली लगाने का अंतिम दिन होने के बाद से नीलामी में भाग लेने वालों में कौतुहल व्याप्त हैं। माना जा रहा है कि मेरठ के कॉटन टेक्सटाइल कारोबारी ने 23 करोड़ की सबसे ऊंची बोली लगाई है।

दो अखबारों में प्रकाशित हुई नीलामी सूचना

हिमांशु पुरी और ताराचंद पुरी की पुरी हास्पिटेलिटी एंड सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड पर रिलायंस कैपिटल की 24 करोड़ 54 लाख 86 हजार 235 रुपये की देनदारी थी। कंपनी ने 19 दिसंबर 2017 को डिमांड नोटिस जारी किया था। जिसके बाद कंपनी ने नौ अप्रैल को होटल और कोठी पर कब्जा लेते हुए सरफेसी एक्ट के तहत नोटिस चस्पा कर दिया था। इसके पहले ही पुरी परिवार छह मार्च से ही शहर से गायब हो गया था। कर्ज की धनराशि की रिकवरी के लिए रिलायंस कैपिटल ने एक अंग्रेजी और दूसरा ¨हदी के समाचार पत्र में नीलामी की सूचना प्रकाशित की थी। दिल्ली के न्यू फ्रेंडस कालोनी के त्रिभुवन कांप्लेक्स स्थित रिलायंस कैपिटल के कार्यालय में दो मई को शाम चार बजे तक खरीदने के इच्छुक पार्टियों को निर्धारित प्रपत्र में बोली की धनराशि अंकित कर देनी थी। नीलामी प्रपत्र के साथ जमा हुए हैं 2.06 करोड़

सूचना में कंपनी 1581 वर्ग मीटर के एरिया में फैले होटल की रिजर्व प्राइस 19 करोड़ 50 लाख रुपये निर्धारित की थी। वहीं 174 वर्गमीटर के शास्त्रीनगर स्थित कोठी की कीमत एक करोड़ 10 लाख रुपये निर्धारित की है। बोली में भाग लेने वालों को इससे अधिक बोली लगानी थी। सूत्रों के अनुसार न्यूनतम बोली 20.60 करोड़ रुपये से अधिक की लगानी थी। अधिकतम बोली 23 करोड़ रुपये के आसपास बताई जा रही है। जीएसटी, डीजीजीआइ की छापे की कार्रवाई और निजी देनदारी होने के चलते लोगों ने संपत्ति खरीदने में रुचि नहीं दिखाई है। अर्रेस्ट मनी तो जमा भी हो गई है

सम्राट पैलेस निवासी गुलशन सचदेवा ने नीलामी में हिस्सा लिया है। 1 करोड़ 95 लाख होटल और 11 लाख रुपये कोठी के मद में अर्नेस्ट मनी जमा की है। कुल 2.06 करोड़ बोली के प्रपत्र के साथ साथ जमा किए गए है। नीलामी के शर्तो में सफल होने वाले व्यक्ति को बोली की धनराशि का 25 प्रतिशत तुरंत जमा करना होगा। कंपनी के अधिकारियों ने किया होटल विजिट

सूत्रों के अनुसार होटल में सामान की सुरक्षा के मद्देनजर सोमवार को रिलायंस कैपिटल के अधिकारियों ने होटल और कोठी का निरीक्षण किया है। बतातें चलें कि कंपनी ने ही होटल पर गार्डो की तैनाती कर रखी है। पिता और माता को बनाया सह कर्जदार

रिलायंस कैपिटल की नीलामी सूचना में हिमांशु पुरी को मुख्य कर्जा लेने वाला बताया गया है। वहीं उनके पिता ताराचंद पुरी और मां लवली पुरी का नाम सह कर्जदार के रूप में लिखा गया है। डीजीजीआइ ने लिखा रिलायंस कैपिटल को पत्र

डायरेक्टर जनरल आफ गुड्स एंड सर्विस टैक्स ने रिलायंस कैपिटल को पत्र लिखकर होटल हारमनी की नीलामी के बावत जानकारी तलब की है। डिप्टी डायरेक्टर जांच ने बताया कि बकाया टैक्स की देनदारी स्वत: ही खरीददार पर निर्धारित हो जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस