मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

मेरठ, जेएनएन : 17 लाख उपभोक्ता और डिस्ट्रीब्यूटरों के लगभग 400 करोड़ रुपये लेकर अचानक बंद हो गई केबल नेटवर्क कंपनी इंडिपेंडेंट टीवी के विरुद्ध पश्चिम उ.प्र. के डिस्ट्रीब्यूटरों ने सोमवार को जंतर मंतर पर प्रदर्शन किया। प्रधानमंत्री कार्यालय में शिकायत दर्ज कराई और ट्राई कार्यालय पहुंचकर कंपनी के निदेशकों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की। इस दौरान ट्राई अफसरों ने बताया कि इंडिपेंडेंट टीवी के नाम से केबिल नेटवर्क कंपनी का पंजीकरण उसके बंद होने से मात्र 12 दिन पहले ही हुआ है। इस जानकारी से डिस्ट्रीब्यूटर हैरत में हैं।

इंडिपेंडेंट टीवी केबल नेटवर्क का प्रसारण लगभग दस दिन पहले अचानक बंद हो गया था। जिससे देश भर के उसके 17 लाख उपभोक्ता और सैकड़ों डिस्ट्रीब्यूटर परेशान हैं। प्रसारण बंद होने पर उन्होंने कंपनी के निदेशकों पर 400 रुपये का गबन करने का आरोप लगाया था। कंपनी के अधिकारियों द्वारा लगातार फेसबुक पर जल्द प्रसारण शुरू करने का दावा किया जा रहा है। लेकिन बार बार इसकी तिथियां बदल रही हैं। सोमवार को बड़ी संख्या में डिस्ट्रीब्यूटर सबसे पहले ट्राई (दूरसंचार नियामक आयोग) के कार्यालय पर पहुंचे। एडवाइजरी बोर्ड डायरेक्टर वी के अग्रवाल से मिलकर कंपनी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। डिस्ट्रीब्यूटरों ने बताया कि ट्राई के रिकार्ड में इंडिपेंडेंट टीवी के नाम से कंपनी का पंजीकरण ही प्रसारण बंद होने से मात्र 12 दिन पहले हुआ है। कंपनी ने 20 करोड़ की जमानत राशि भी जमा कराई है। इससे पहले यह बिग टीवी के नाम से प्रसारण चल रहा था। डिस्ट्रीब्यूटरों ने प्रधानमंत्री कार्यालय में भी लिखित शिकायत प्राप्त कराई है। उन्होंने जंतर मंतर पर भी पहुंचकर प्रदर्शन किया। प्रदर्शन में गौरव टंडन, नितिन, हर्षित, अंकुर, बी कृष्णा आदि शामिल रहे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप