मेरठ,जेएनएन। विधानसभा चुनाव की कवायद शुरू होते ही गंगा खादर क्षेत्र के गांवों में शराब की तस्करी जोर शोर से होने लगी है। शराब माफिया ने गांव-गांव में अपना जाल बिछाने शुरू कर दिया है। खादर क्षेत्र स्थित गांवों व जंगलों में शराब की भट्ठियां एक बार फिर धधकनी शुरू हो गई। जबकि आबकारी विभाग व पुलिस के कवायद नाकाफी साबित हो रहे हैं।

गंगा खादर क्षेत्र के हस्तिनापुर समेत अन्य इलाकों में कच्ची शराब का धंधा यूं तो साल-दर साल फलफूलता रहता है। अब विधानसभा चुनाव की दस्तक के बीच शराब का अवैध धंधा जोर पकड़ गया है। आबकारी विभाग व पुलिस भले ही बंदी का दावा करें लेकिन एक गांव की तस्वीर सामने आई वहां शराब की भट्ठी धधक रही रही है। जबकि इसके लिए माफिया जाल बुनते रहते हैं। हालांकि ग्रामीणों के विरोध के बावजूद इस धंधे पर कभी अंकुश नहीं लगा है।

-इन गांवों में पड़ते रहते हैं छापे

मवाना तहसील क्षेत्र के गांव खादर, हस्तिनापुर, बहसूमा, फलावदा, निलौहा, बिसौला, खेडी कला, जलालपुर गोरा, किशोरपुर, मखदमपुर, दुपहेड़ी चाव, मनोहरपुर के अलावा दर्जनों गांवों में पुलिस आए दिन कच्ची शराब के साथ तस्करी कर लाई गई शराब के लिए छापेमारी होती है लेकिन बड़ी खेप कभी नहीं पकड़ी गई।

इन्होंने कहा..

आबकारी व पुलिस की संयुक्त टीम समय-समय पर अभियान चलाकर भट्ठी तोड़कर कमर तोड़ी जाती है। चुनाव के मद्देनजर अतिरिक्त सर्तकता के साथ छापेमारी की जा रही है।

उदय प्रताप सिंह, सीओ मवाना रोडवेज बस ने कार में मारी टक्कर, बचा परिवार: मेरठ-करनाल हाईवे पर गोटका गांव के पास तेज रफ्तार रोडवेज बस ने सामने से कार में टक्कर मार दी। जिसमें कार क्षतिग्रस्त हो गई। वहीं, कार में बैठे परिवार के लोग बाल-बाल बच गए। सूचना पर पहुंची पुलिस क्षतिग्रस्त कार को थाने ले आ गई। देर शाम तक रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई थी।

हरियाणा के करनाल जिले के गांव सोलदा निवासी गौरव अपनी पत्नी सोनी व परिवार के दो सदस्यों के साथ मेरठ से वापस हरियाणा कार से जा रहे थे। जब वह मेरठ-करनाल हाईवे पर गोटका गांव के पास पहुंचे तभी विपरीत दिशा से आ रही रोडवेज बस ने उनकी कार में टक्कर मार दी। हादसे में कार का अगला हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया। पीड़ित ने तहरीर दी। लेकिन, समाचार लिखे जाने तक मुकदमा दर्ज नहीं हुआ था।

Edited By: Jagran