मेरठ, जागरण संवाददाता। Raksha Bandhan 2022 रक्षाबंधन पर्व के लिए बाजार सजकर तैयार है, चारों ओर लाल पीले नीले हरे गुलाबी और बैंगनी रंगों की राखियां ही दिखाई दे रही है। एक से बढ़कर एक राखी जिसे देखो उसे ही खरीदने का मन हो जाए। इन दिनों सुबह शाम आबूलेन, सदर, लालकुर्ती, बेगमपुल, शास्त्रीनगर, सेंट्रल मार्किट और शारदा रोड पर राखी के खरीदारी की भी़ड़ लगी हुई है।

बाजार में खूब वैरायटी

बहनें भाई के लिए सबसे अच्छी राखी लेने के लिए दुकान दुकान घूम रही हैं। डिजाइनर राखी के अलावा इस बार बाजार में चांदी की राखी की भी खूब वैरायटी हैं। जिन्हें पहली बार मेरठ के कारीगरों द्वारा तैयार किया गया है, और इनकी मांग दूर दूर तक हैं। इस बार रक्षाबंधन वाले चांदी के सिक्कों की भी 50 से 60 प्रतिशत मांग है। जिन्हें बहनें और भाई दोनों ही पसंद कर रहे हैं।

कीमत भी जरा जान लीजिए

त्योहारी सीजन में जहां तक चांदी की कीमत की बात है, तो 1 जुलाई को 60 हजार रुपये प्रतिकिलो ग्राम कीमत थी। इसके बाद से शनिवार तक चांदी की कीमत 58 हजार से 59 हजार रुपये प्रतिकिलो ग्राम के बीच है। हालांकि चांदी कारोबारियों का कहना है कि दीपावली पर्व तक चांदी की कीमत 65 हजार के पार हो जाएगी। उम्मीद है कि इस बार पिछले साल की अपेक्षा चांदी के कारोबार में कई गुना तेजी आएगी। राखी पर भी कोलकाता वाली काली इस बार चांदी की राखी में एक से बढ़कर एक डिजाइन उपलब्ध है, जो किसी का भी मनमोह ने लिए काफी है।

ये तस्‍वीर हैं बनीं

चांदी के विभिन्न आकार वाली राखी पर कोलकाता वाली मां काली की तस्वीर, शिव परिवार, गणेश, राधा कृष्ण, डमरू, ओम के अलावा बच्चों की राखी पर छोटा भीम, स्पाइडर मैन और डोरीमोन काटूर्न भी अंकित है। इनकी कीमत इनका वजन 3 ग्राम और कीमत 700 रुपये है। इसके अलावा ब्रेसलेट राखी, डमरू त्रिशूल और रुद्राक्ष वाली राखी में भी काफी डिजाइन है। इनकी कीमत 300 से 700 रुपये तक हैं।

चांदी के सिक्के भी

रक्षाबंधन वाले चांदी के सिक्के अभी तक दीपावली पर्व पर चांदी के सिक्के उपहार में देने का चलन था। पहली बार मेरठ में ही तैयार किए गए रक्षाबंधन वाले चांदी के सिक्के बाजार में छाए हुए है। 10 ग्राम से 100 ग्राम तक के वजन वाले चांदी के इन सिक्कों पर राखी बांधते हुए भाई बहन और राखी बनी हुई है। इन सिक्कों की कीमत 1 हजार रुपये से 10 हजार रुपये तक हैं, और पहली बार में इनकी मांग 50 प्रतिशत है। हालांकि पहली बार बनने की वजह से अभी इन्हें बाहर नहीं भेजा गया है।

इनका कहना है

पहली बार चांदी की राखी और रक्षाबंधन सिक्कों की मांग अधिक है। त्योहारी सीजन में इस बार कारोबार में 50 प्रतिशत की तेजी आंकी जा रही है। अब से लेकर दीपावली तक चांदी के कारोबार में तेजी रहेगी। इस बार राखी के पारंरिक डिजाइन तैयार करवाए गए है।

- प्रदीप अग्रवाल, निदेशक आरएमपी ज्वलर्स सराफा बाजार

चांदी की राखी के डिजाइन सीमित होने की वजह से अभी तक इन राखियों की मांग कम थी। लेकिन इस चांदी की राखियों में काफी डिजाइन है। इससे 50 प्रतिशत तक मांग बढ़ गई है।

- आकाश मांगलिक, निदेशक भगत ज्वेलर्स आबू प्लाजा 

Edited By: Prem Dutt Bhatt