मेरठ,जेएनएन। फुटबाल चौक से दिल्ली-देहरादून बाईपास तक साढ़े चार किमी की बागपत रोड को डेढ़ वर्ष में भी संवारा नहीं जा सका। लोक निर्माण विभाग को फरवरी 2020 में बागपत रोड पर नवीनीकरण के लिए शासन से स्वीकृति मिली थी। नवीनीकरण शुरू तो हुआ लेकिन अभी तक पूरा नहीं हो सका। बागपत रोड पर केएमसी अस्पताल व मलियाना पुलिस चौकी के सामने सड़क में बड़े-बड़े गड्ढे हैं। बागपत रोड का डिवाइडर जर्जर है। सड़क के बीच में खड़े बिजली के खंभे व पुराने विशालकाय पेड़ दुर्घटना की आशंका बढ़ाते हैं। वहीं, जिम्मेदार अधिकारी कभी बारिश तो कभी अन्य बहाने बनाते हैं। बागपत रोड पर सीमेंट समेत निर्माण सामग्री के कई बड़े प्रतिष्ठान व गोदाम हैं। दो विधानसभा क्षेत्रों से गुजरने वाली बागपत रोड पर व्यावसायिक गतिविधियां संचालित होती हैं। स्थानीय लोगों की परेशानी, उन्हीं की जुबानी

बागपत रोड पर सड़क का स्तर समानांतर नहीं है। डिवाइडर टूटकर दुर्घटना का कारण बन रहा है। दिल्ली रोड पर रूट डायवर्ट होने के कारण बागपत रोड पर ट्रैफिक का अधिक दबाव है। सड़क के डिवाइडर की मरम्मत होनी चाहिए।

- अनिल अग्रवाल, महामंत्री, साबुन गोदाम व्यापार संघ मलियाना पुल की मरम्मत अधूरी छोड़ दी है। निर्माण कार्य के दौरान कमी रह गई जिससे बागपत रोड पर बारिश के बाद तालाब की तरह जलभराव होता है। बागपत रोड पर अतिक्रमण से जाम के हालात बने रहते हैं।

- सोनू शर्मा, प्लाइवुड व्यापारी, बागपत रोड निर्माण कार्य पूर्ण होने पर शुरू होगा डीएलपी

बागपत रोड का निर्माण कार्य अभी पूरा नहीं हुआ है। कंपनी द्वारा निर्माण कार्य पूरा होने के बाद ही डीएलपी यानी डिफेक्ट लायबिल्टी पीरियड शुरू होगा। सड़क की डीएलपी दो वर्ष है। इसलिए जिस दिन और माह में कंपनी कार्य को पूर्ण घोषित करेगी, उसी समय से डीएलपी के समय का आकलन किया जाएगा। सड़क की जानकारी सड़क का नाम - फुटबाल चौक से दिल्ली दून बाईपास तक बागपत रोड सड़क की लंबाई - 4.5 किमी

सड़क की जिम्मेदारी : लोक निर्माण विभाग, प्रांतीय खंड

नवीनीकरण आरंभ - 2021 (अभी कार्य पूर्ण नहीं)

डीएलपी - कार्य पूर्ण करने की अवधि से दो वर्ष तक

कंपनी का नाम - मैसर्स अनुज एसोसिएट्स इन्होंने कहा- बागपत रोड पर नवीनीकरण संबंधी जो कार्य शेष है, उसे बारिश के बाद जल्द ही पूरा किया जाएगा। पेड़ व बिजली के पोल शिफ्ट करने के लिए वन विभाग व बिजली विभाग से पत्राचार किया गया था। इसमें भी अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

- अतुल कुमार, अधिशासी अभियंता, लोक निर्माण विभाग

Edited By: Jagran