मेरठ, जेएनएन। परतापुर तिराहे पर अब पहले वाले अंडरपास के बजाय दूसरा अंडरपास खोलने की तैयारी शुरू कर दी गई है। उम्मीद है कि 3-4 दिन में इससे मेरठ व देहरादून बाईपास के वाहन दिल्ली की ओर भेजे जाने लगेंगे। दो अंडरपासों के बीच से जिस रास्ते से वाहन निकाले जा रहे हैं, उसे बंद कर दिया जाएगा।

गुरुवार को दिल्ली रोड पर पेट्रोल पंप वाली साइड में सर्विस रोड पर डामर कार्य शुरू कर दिया गया। दो दिन में यह कार्य पूरा हो जाएगा फिर इसे नए तैयार हो रहे दूसरे अंडरपास से जोड़ दिया जाएगा। दूसरे अंडरपास की छत तैयार हो गई है। दो दिन बाद इसकी शटरिंग खोल दी जाएगी। जब इससे वाहनों का आवागमन शुरू हो जाएगा तब दिल्ली रोड के बीच वाले हिस्से पर तीसरे अंडरपास का कार्य गति पकड़ेगा। आरवाई वाल बनाकर मिट्टी भराव होगा।

..तो अभी यू-टर्न से जूझते रहेंगे वाहन

दिल्ली से मेरठ की ओर आने वाले वाहन फिलहाल अभी देहरादून बाईपास के यूटर्न से जूझते रहेंगे। पहले वाले अंडरपास से वाहन निकालने को लेकर एनएचएआइ असमंजस में है। इसके बारे में निर्णय तब हो सकेगा जब दूसरे अंडरपास से आवागमन शुरू हो जाएगा।

परतापुर तिराहे के पास दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे के लिए तैयार हो रहे रेलवे ओवरब्रिज पर गार्डर आज यानी गुरुवार से रखे जाएंगे। रात 12 बजे से सुबह चार बजे तक रोजाना यह कार्य होगा। कुल 12 गार्डर रखे जाने हैं। रोजाना दो या तीन गार्डर रखे जाने का लक्ष्य है, लेकिन यह संभव होगा रेलवे के ब्लॉक से। रेलवे जितने घंटे का ब्लॉक देगा उतने ही समय तक गार्डर रखने का कार्य होगा। इसके लिए क्रेन और गार्डर पहले ही इंस्टॉल कर लिए गए थे। एनएचएआइ के प्रोजेक्ट मैनेजर अरविंद कुमार ने बताया कि गार्डर रखने के बाद ओवरब्रिज तक मिट्टी भराव का कार्य व आरआइ वाल का कार्य तेज गति से शुरू हो जाएगा, क्योंकि क्रेन व अन्य मशीनों को ले जाने के लिए रास्ते की जरूरत थी।

तिराहे पर कोई भी रास्ता अंतिम नहीं

परतापुर तिराहे पर वाहनों को निकालने के लिए जो भी रास्ते बनाए जाते हैं उसे वाहन चालकों को अंतिम नहीं मानना चाहिए। जब तक इंटरचेंज का कार्य पूरा नहीं हो जाता तब तक वैकल्पिक मार्ग बदले जाते रहेंगे। 

Posted By: Prem Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस