मेरठ, जेएनएन। पहली बार प्रधानमंत्री कौशल विकास अंतर्गत महिलाओं और पुरुषों को योग का विशेष प्रशिक्षण दिया गया। पतंजलि योग समिति मेरठ इकाई की ओर से रविवार को प्रमाणपत्र बांटे गए।

आर्य समाज मंदिर सदर में कौशल विकास के तहत 200 में से 131 प्रतिभागियों को योग के प्रमाणपत्र दिए गए। सभी को एक महीने का प्रशिक्षण दिया गया। अब यह सभी अधिकृत योग प्रशिक्षक बन चुके हैं। कार्यक्रम में कौशल विकास के राज्य प्रशिक्षण प्रभारी विनोद चौधरी, महिला पतंजलि योग समिति की जिला प्रभारी हर्षिता आर्य, भारत स्वाभिमान के जिला प्रभारी सोहनवीर आर्य, सह प्रभारी मुदित बंसल, पतंजलि योग समिति के प्रभारी राजेंद्र सिंह और किसान सेवा समिति के जिला प्रभारी जयप्रकाश चौधरी ने प्रशिक्षुओं को प्रमाणपत्र दिए।

योग में रोजगार के बढ़े अवसर

प्रशिक्षण प्रभारी विनोद चौधरी ने बताया कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के अंतर्गत बहुत सारे विषय ऐसे हैं जिनको वरीयता के आधार पर मदद की जाती है। प्रधानमंत्री कौशल विकास में योग को भी रखा गया है। कौशल विकास के तहत अभ्यर्थी अगर अपना योग प्रशिक्षण केंद्र खोलना चाहेंगे तो उन्हें पांच लाख रुपये का अनुदान सरकार से मिल सकता है।

एक समान योग का अध्ययन

कौशल विकास के अंतर्गत शास्त्रीनगर पतंजलि केंद्र पर मई 2019 में 200 लोगों ने भाग लिया था। सभी ने योग की परिभाषा, योग का इतिहास, योग के मूलभूत तत्व, हठयोग, कर्म योग, भक्ति योग, ज्ञान योग और राजयोग के अलावा छह दर्शन का भी अध्ययन किया। साथ ही योग का विधिवत अभ्यास भी कराया गया। आसन और प्राणायाम में प्रतिभागियों ने दक्षता हासिल की।

अब अगला सत्र मार्च में

कौशल विकास के अतंर्गत पतंजलि शास्त्रीनगर अधिकृत केंद्र है। मार्च 2020 में अगला सत्र शुरू होगा। 18 साल की आयु पूरी करने वाले महिला और पुरुष इसमें प्रतिभाग कर सकते हैं। कुशल संवाद कौशल रखने वाले प्रतिभागियों को इसमें प्रवेश मिल सकता है। पहले बैच में जिन 131 प्रतिभागियों के प्रमाणपत्र बांटे गए, उसमें से 125 महिलाएं हैं।

ये बोले प्रतिभागी

पतंजलि योग केंद्र से योग का प्रशिक्षण लेकर मैं अब अन्य महिलाओं को प्रशिक्षण दे रही हूं। योग के माध्यम से हम लोगों को निरोग रखने के साथ उनके आत्मविश्वास को भी बढ़ा सकते हैं।

किरण आनंद

पहले अपने पति के साथ सुबह घूमने जाती थी। फिर योग सीखने की प्रेरणा मिली। अब योग सीख कर गांधी बाग में अन्य लोगों को निश्शुल्क अभ्यास करा रही हूं।

रुचि तेवतिया

योग का इससे पहले कोई प्रमाणपत्र नहीं था। पतंजलि केंद्र में प्रशिक्षण के बाद बहुत कुछ सीखने को मिला। अब इस योग शिक्षा को निश्शुल्क आगे बढ़ाएंगे।

रूबी पंवार

शहर में कई जगह योग का प्रशिक्षण देने वाले हैं, बहुत से लोगों के पास कोई प्रमाणपत्र नहीं है। कौशल विकास के तहत योग का एक समान प्रशिक्षण मिला।

साक्षी शर्मा

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस