वैभव हत्या मामले में एक आरोपित गिरफ्तार, तीन पकड़ से दूर

मेरठ, जेएनएन। परीक्षितगढ़ के गांव कुआखेड़ां के युवक की हत्या मामले के एक आरोपित को सोमवार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया, जबकि तीन आरोपित पुलिस पकड़ से दूर हैं। उधर, वैभव के शव का गमगीन माहौल में अंतिम संस्कार कर दिया गया। गांव कुआखेड़ां निवासी वैभव त्यागी पुत्र राजीव त्यागी का गांव के ही शोएब से एक माह पूर्व खेत से गन्ना तोड़ने को लेकर विवाद हो गया था। उस समय तो मामला निपट गया, लेकिन शोएब रंजिश रखने लगा था। उक्त मामले की तहरीर वैभव हत्या के कुछ घंटे पहले भी दी गई, लेकिन पुलिस गंभीर नहीं दिखाई दी। जब वह थाने से गांव वापस लौट रहा था तो गांव रहदरा के पास शोएब व फिरोज व रहदरा निवासी तपेश्वर उर्फ नीटू व सतेश्वर उर्फ लौकी के साथ उसे घेर लिया और गोली मारकर हत्या कर दी। पेट में गोली लगने से वह वहीं गिर गया था। हालांकि दोनों गांव एक दूसरे से सटे होने के कारण स्वजन भी पहुंच गए और अस्पताल ले जाते हुए मौत हो गई थी। मामला दो संप्रदाय से जुड़ा होने के कारण लोग एकत्र भी हुए और आक्रोश फूटता गणमान्य लोगों ने मामला संभाल लिया था। उक्त मामलो में मृतक के भाई ने शोएब समेत चारों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। हालांकि पुलिस ने रात ही एक हत्यारोपित फिरोज को दबोच लिया और अन्य की गिरफ्तारी को पूछताछ के बाद दबिश दी, लेकिन वे हत्थे नहीं चढ़ा। उधर, एसपी देहात केशव कुमार पीड़ित स्वजन के बीच पहुंचे और जल्द हत्यारोपितों की गिरफ्तारी का आश्वासन दिया। थाना प्रभारी राजीव कुमार ने बताया टीमें गठित की गई हैं। जल्द ही मुख्य आरोपित समेत अन्य पकड़े जाएंगे। शव स्वजन को सौंपा, गांव में किया अंतिम संस्कार वैभव की हत्या के बाद कुआखेड़ा में जातिगत आक्रोश भी पनप रहा है, जिससे पुलिस फूंक-फूंककर कदम उठा रही है। लोगों का मानना है कि पुलिस मामले को गंभीरता से लेती और वैभव को सुरक्षा देकर सुरक्षित गांव पहुंचाती तो वह अपनों के बीच होता। लोगों में पुलिस के खिलाफ भी कम गुस्सा नहीं है। इन्हीं सब को समझते हुए सुबह जैसे ही शव पहुंचा तो पुलिस की मौजूदगी में शव का गांव में अंतिम संस्कार हुआ।

Edited By: Jagran