मेरठ: दो अगस्त को स्थगित हुई बैठक सोमवार को हुई तो भाजपा पार्षदों ने नियम के खिलाफ बताकर बहिष्कार कर दिया। बसपा खेमे ने कोरम को पूरा कर दिया। इस दौरान भाजपा पर विकास विरोधी होने के आरोप लगे। अनुसूचित जाति से होने के कारण महापौर की उपेक्षा का आरोप लगाकर मेयर समर्थक पार्षदों ने नाराजगी जताई। शहर में फैले कूड़े, पानी की किल्लत और अवैध होर्डिग पर अफसरों की खूब फजीहत हुई। अफसर पार्षदों के सवालों का जवाब तक नहीं दे पाए।

पार्षद जुबैर ने नगर स्वास्थ्य अधिकारी से कूड़े को लेकर कड़ी नाराजगी जाहिर की। पार्षदों ने पूछा कि कूड़ा कब तक साफ होगा? नगर स्वास्थ्य अधिकारी ने नगर आयुक्त और पूरे निगम प्रशासन को जिम्मेदार बताया। तीन दिन में सफाई का आश्वासन दिया। पार्षदों ने गांवड़ी में दस साल में चाहरदीवारी न कराने पर भी रोष जताया। खराब हैंडपंपों पर भी पार्षदों ने तीखी नाराजगी जताई। नलकूपों के संचालन और रखरखाव में भ्रष्टाचार के आरोप लगे। कहा गया कि आपरेटरों के नाम पर पैसा लेकर बंदरबांट की जा रही है।

अंसल में 120 करोड़ की जमीन भूला निगम पार्षद का धरना

पार्षद कासिम ने आरोप लगाया कि नगर निगम की तीन लाख मीटर से ज्यादा जमीन वेदव्यासपुरी में अंसल की कालोनी में गई थी। वर्ष 2007 में उक्त जमीन की कीमत 120 करोड़ से ज्यादा थी। अफसर इसे भूल गए हैं। भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए उन्होंने बैठक में ही पत्रावली मंगाने की मांग की। वे वहीं धरने पर बैठ गए। पार्षद धर्मवीर ने कहा कि हर बार बैठक में अफसर समस्या नोट कर लेते हैं, लेकिन समाधान नहीं करते। सरकार बाधा बनेगी तो सरकार के खिलाफ भी धरना देंगे।

नई गाड़ियों का निकला दम

पार्षदों ने आरोप लगाया कि घर-घर से कूड़ा उठाने के लिए जो नई गाड़ियां मंगाई गई हैं, उनके हाइड्रोलिक काम नहीं कर रहे हैं। इंजन में भी खामियां हैं। खरीद में धांधली का आरोप लगाया। मुख्य वित्त एवं लेखाधिकारी ने कहा कि गाड़ियां सीधे कंपनी से पारदर्शिता से खरीदी गई हैं। फाल्ट की गारंटी है।

पत्थरों पर पार्षद का नाम नहीं

जुबैर पार्षद का आरोप है कि निगम के विकास कार्यो के पत्थरों पर विधायकों के नाम लिखे जा रहे हैं पार्षदों के नहीं। कार्यवाहक मुख्य अभियंता नीना सिंह ने बताया कि यह शासन का आदेश है। पार्षदों के नाम लिखने का मामला दिखवाया जाएगा।

ईंधन लाने में फुंक जाता है लाखों का तेल

पार्षद जुबैर ने आरोप लगाया कि निगम अफसरों ने पेट्रोल पंप मालिकों से सेटिंग कर रखी है। गाड़ियां तेल लाने के लिए 10 से 20 किमी तक चलती हैं। उन्होंने तेल डिपो के आसपास के पेट्रोल पंप से ही लेने की मांग की। महापौर ने भी इसे जायज ठहराया।

छह महीने से सड़क निर्माण के वर्क आर्डर लेकर बैठे ठेकेदार

धर्मवीर ने बताया कि शहर में सड़कों की हालत बदतर है। निगम टेंडर कर चुका है, वर्क आर्डर जारी हो गये हैं लेकिन ठेकेदार छह महीने से वर्क आर्डर लेकर बैठे हैं।

बंद करें अवैध होर्डिग का खेल

शहर में लगे हजारों अवैध होर्डिग का मुद्दा भी बैठक में छाया रहा। पार्षद धर्मवीर ने ठेकेदारों के पंजीकरण न करने, वसूली न करने, अवैध होर्डिग को न हटाने, यूनिपोल से दुर्घटनाओं तथा बीओटी ठेकेदारों से मिलीभगत पर नाराजगी जताई। उन्होंने विज्ञापन प्रभारी को हटाने की मांग की।

भाजपा पर आरोपों की बौछार

बैठक में पार्षदों ने आरोप लगाया कि भाजपा शहर का विकास नहीं चाहती। तभी तो उसके पार्षद आज बैठक में नहीं आये। पेयजल संकट पर कहा कि सारे ठेकेदार भाजपा के हैं।

तीन दिन में कूड़ा न उठा तो भूख हड़ताल

पार्षद जुबैर ने नगर स्वास्थ्य अधिकारी से दो टूक कहा कि तीन दिन में कूड़ा न उठा तो आपके खिलाफ पार्षद भूख हड़ताल करेंगे

आप लिख कर दीजिये मैं शहर की सफाई कराने में असमर्थ हूं

पार्षदों ने कूड़ा निस्तारण प्लांट की स्थापना में विलंब पर नाराजगी जताई तो नगर स्वास्थ्य अधिकारी ने गेंद नगर आयुक्त के पाले में डाली। पार्षद गुस्सा गये। उन्होंने स्पष्ट कहा कि आप लिखकर दीजिये कि मैं शहर की सफाई कराने में असमर्थ हूं। फिर हम कार्रवाई कराते हैं।

Posted By: Jagran