मेरठ,जेएनएन। परीक्षितगढ़ के सर्राफ कपिल हत्याकांड में पुलिस फेल साबित हुई। कई दिन बीतने के बावजूद भी हत्यारों का सुराग नहीं लगा। हालांकि इंस्पेक्टर की भी तैनाती हुए 24 घंटे से अधिक बीत गए। गुरुवार को भी सिर्फ घटना स्थल के निरीक्षण तक जांच का दायरा सिमटकर रह गया।

पूठी निवासी सर्राफ कपिल सैनी का गोली लगा शव कस्बा स्थित रजवाहे में मिला था। दूसरे दिन गुस्साए लोगों ने थाने के सामने शव रखकर जाम लगाया था। उक्त मामले में एसओजी, सर्विलांस सेल और फारेंसिक टीम भी हत्यारों के सुराग में लगी हुई है। इसके बावजूद हत्यारों का सुराग नहीं लगा। उधर, इंस्पेक्टर का चार्ज देख रहे मोहसीन अहमद भी जल्द हत्यारों तक पहुंचने का दावा करते रहे। आखिर देर रात एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने इंस्पेक्टर राजीव कुमार को तैनाती थाने में तैनात करने के आदेश जारी किए।

गुरुवार को इंस्पेक्टर राजीव कुमार घटना स्थल रजवाहे पर पहुंचे और बह रहे पानी की स्थिति देखते हुए शव किस स्थिति में मिला यह जानकारी ली। उधर, पोस्टमार्टम रिपोर्ट का भी अवलोकन किया। इंस्पेक्टर राजीव ने बताया कि परीक्षितगढ़ थाने का चार्ज संभाले कुछ घंटे ही बीते हैं। पुलिस ने जांच का दायरा बढ़ाया है। जल्द हत्यारोपित पकड़े जाएंगे।

हत्यारोपित की जमानत अर्जी खारिज : डेढ़ महीना पूर्व दो किशोरों की हत्या व कुकर्म के आरोपित पॉक्सो एक्ट के आरोपित जावेद की गुरुवार को कोर्ट ने जमानत अर्जी खारिज कर दी।

गौरतलब है कि गत 28/29 अगस्त की रात को शाहजहांपुर निवासी दो किशोरों की फतेहपुर नारायण के बाग में नृशंस हत्या कर ई-रिक्शा लूट लिया गया था। वारदात में हापुड़ के डिबाई गांव निवासी जावेद पुत्र औसाफ का नाम सामने आया था। क्योंकि जावेद दोनों किशोरों से फोन पर बात करता था। पुलिस ने जावेद को गिरफ्तार कर लिया था। मृतक किशोर के भाई ने उसके खिलाफ हत्या व कुकर्म की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। बुधवार को अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश फराह मतलूब की कोर्ट ने आरोपित की जमानत अर्जी को खारिज कर दिया।

Edited By: Jagran