मेरठ,जेएनएन। संक्रमित शव से जेवरात चोरी के मामले में एक सप्ताह बीतने के बावजूद भी पुलिस के हाथ खाली है। इसके बावजूद भी पुलिस आरोपितों को पकड़ने में लापरवाही बरत रही है। मृतक के स्वजन ने मेडिकल थाना प्रभारी से आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग की है।

तेजगढ़ी निवासी गिरिराज सिंह के बेटे डा. पवन कुमार चौ. चरण सिंह विवि में असिस्टेंट प्रोफेसर थे। कोविड होने पर उन्हें मेडिकल में भर्ती कराया गया था। बीते शुक्रवार उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई थी। स्वजन का आरोप है कि मेडिकल स्टाफ ने मृतक के शरीर से सोने की चेन और अंगूठी चोरी कर ली थी। दाह संस्कार के समय स्वजन को चोरी का पता चला था। उन्होंने आरोपितों के विरुद्ध अज्ञात में तहरीर दी है। इसके बावजूद भी पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है। इसके अलावा अन्य तीमारदार भी मेडिकल पुलिस से मरीजों का सामान चोरी होने की लगातार शिकायत आ रही है। इंस्पेक्टर प्रमोद गौतम का कहना है कि कोविड वार्ड में ड्यूटी होने से स्टाफ से पूछताछ नहीं की गई है। मेडिकल कालेज के प्राचार्य को घटना से अवगत करा दिया है। वह भी अपने स्तर पर आरोपितों की गोपनीय जांच करा रहे हैं। जल्द ही आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जाएगा।

अधिवक्तओं को बेड और आक्सीजन उपलब्ध कराएं: मेरठ बार एसोसिएशनअध्यक्ष महावीर सिंह त्यागी और महामंत्री सचिन चौधरी ने जनपद के जनप्रतिनिधियों को पत्र लिख कोरोना संक्रमित अधिवक्ताओं के लिए आक्सीजन और बेड की व्यवस्था करने की मांग की है। पदाधिकारियों ने बताया कि बड़ी संख्या में अधिवक्ता कोरोना से संक्रमित हैं, जबकि कई अधिवक्ताओं की सही इलाज न मिल पाने की वजह से मृत्यु हो गई है । संक्रमण बढ़ने के कारण प्रतिदिन मांग की कि 25-25 आक्सीजन सिलेंडर और अस्पताल में बेड रिजर्व करना सुनिश्चित करें। महामंत्री ने बताया कि पर्याप्त संख्या में बेड व आक्सीजन न मिलने के कारण समस्या सामने आ रही है।