मेरठ, जेएनएन। हिंसक प्रदर्शन के बाद हापुड़ रोड पर करीब नौ ट्रॉली ईंट-पत्थर सड़क पर बिखरा मिला, जिसे शनिवार को नगर निगम ने ट्रैक्टर ट्रॉलियों में भरकर लोहिया नगर डंपिंग ग्राउंड भिजवाया। यह ईंट-पत्थर उपद्रव के दौरान प्रदर्शनकारियों ने चलाए थे।

नगर-निगम का दावा

ऐसा हम नहीं कह रहे हैं बल्कि यह दावा नगर निगम प्रशासन का है। नगर आयुक्त ने सूरजकुंड डिपो और दिल्ली रोड डिपो से दोनों डिपो प्रभारी, पांच सुपरवाइजर व सफाई एवं खाद्य निरीक्षकों की टीम को उपद्रव वाले क्षेत्रों में सड़क पर फैले ईंट-पत्थर को उठवाने में लगाया था। नगर निगम की टीम दो जेसीबी और ट्रैक्टर ट्रॉलियों के साथ हापुड़ अड्डा चौराहे पर पहुंची। हापुड़ अड्डे से इस्लामाबाद पुलिस चौकी तक और सिटी हॉस्पिटल से कमेला पुल तक सड़क पर पड़े ईंट-पत्थरों को उठाया गया। करीब आठ बड़ी ट्रैक्टर-ट्रॉली व तीन छोटे वाहनों से ईंट-पत्थर लोहिया नगर डंपिंग ग्राउंड पहुंचाए गए। नगर आयुक्त डॉ. अरविंद कुमार चौरसिया ने बताया है कि दोपहर दो बजे तक हापुड़ रोड पर फैले ईंट-पत्थर व अन्य मलबे को हटाया गया है। कुल नौ ट्रॉली ईंट-पत्थर सड़क से उठाया गया है।

फिलहाल खत्ता रोड पर नहीं जाने दिया गया है टीम को

हापुड़ रोड के तीन किमी. हिस्से में हुई सफाई की ये हकीकत है, जबकि अभी तो नगर निगम टीम को खत्ता रोड में जाने नहीं दिया गया है। इस इलाके से कितना ईंट-पत्थर और निकलेगा। इसका अनुमान लगाना मुश्किल है।

क्षतिग्रस्त डिवाइडर व रेलिंग के नुकसान का सर्वे शुरू

उधर नगर निगम प्रशासन ने उपद्रव के दौरान हुए नुकसान के आंकलन के लिए सर्वे शुरू करा दिया है। निगम अधिकारियों का अनुमान है कि हापुड़ रोड और खत्ता रोड को मिलाकर करीब दो किमी से ज्यादा डिवाइडर तोड़ा गया है। करीब डेढ़ किमी रेलिंग क्षतिग्रस्त की गई है। नगर आयुक्त ने बताया कि मुख्य अभियंता निर्माण को सर्वे की जिम्मेदारी दी है। सर्वे रिपोर्ट के बाद नुकसान का आकलन सामने आएगा। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस