बागपत, जागरण संवाददाता। सिपाही प्रवीण की मौत के मामले में आरोपित रिटायर्ड दारोगा तथा हेड कांस्टेबल अदालत में पेश नहीं हुए। इसको आदेश की अवहेलना मानते हुए अदालत ने हेड कांस्टेबल के एनबीडब्ल्यू (गैर जमानती वारंट) जारी कर दिए है। 

यह है मामला 

कस्बा टीकरी चौकी पर 31 अक्टूबर 2019 को सिपाही प्रवीण कुमार की मौत के मामले में आरोपित रिटायर्ड दारोगा भगवत सिंह के अलावा हेड कांस्टेबल सत्यप्रकाश शर्मा व प्राइवेट रसोइया पदमावती को विशेष न्यायाधीश एससी/एसटी एक्ट एडीजे शैलेंद्र पांडेय की अदालत ने सम्मन जारी करके तलब किया हुआ है। आरोपित रसोइया पदमावती का हाईकोर्ट से अग्रिम आदेश तक स्टे है। अन्य दोनों आरोपित शुक्रवार को भी अदालत में पेश नहीं हुए। 

पीडि़त के अधिवक्ता सतेंद्र दांघड़ का कहना है कि दोघट थाना पुलिस ने हेड कांस्टेबल सत्य प्रकाश शर्मा को सम्मन तामिल नहीं कराया और न ही थाना प्रभारी तलब करने के बावजूद अदालत में पेश हुए। हेड कांस्टेबल सत्यप्रकाश शर्मा ने अदालत के आदेश के विरुद्ध हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल की है। इससे स्पष्ट है कि उन्हें अदालत की कार्रवाई की पूरी जानकारी है। वह अदालत के आदेश की जानबूझकर अवहेलना कर रहे है। इसे गंभीर से लेते हुए अदालत ने हेड कांस्टेबल सत्यप्रकाश शर्मा के एनबीडब्ल्यू जारी किए हैं। दोघट थाना प्रभारी को तलब किया गया है। वहीं सेवानिवृत्त दारोगा भगवत ङ्क्षसह के पहले ही जमानती वारंट व 15 हजार रुपये का जुर्माना लगाया जा चुका है। केस की सुनवाई की अगली तिथि 16 दिसंबर नियत की गई है।

किशोरी का नहीं लगा सुराग 

बागपत। सरफाबाद गांव से रविवार रात 14 वर्षीय अफसा स्कूटी लेकर घर से निकली थी। तलाश में अगले रोज स्कूटी व चप्पल हिंंडन  नदी के पास मिली थी। छठे दिन शुक्रवार को भी सुबह से ही ग्रामीण व गाजियाबाद के गोताखोर टीम किशोरी की तलाश की, लेकिन सफलता नहीं मिल पाई है। किशोरी का पता नहीं लगने से स्वजन का बुरा हाल है। स्वजन ने प्रशासन ने जल्द बेटी को बरामद करने की मांग की है।

Edited By: Parveen Vashishta