मेरठ, जेएनएन। थूक लगाकर रोटियां बनाने वाले नौशाद की हकीकत परत-दर-परत खुलती जा रही है। ठेकेदार हरि सिंह ने पूछताछ में बताया कि नौशाद शहर के ज्यादातर मंडपों में शादी व पार्टियों में रोटियां सेंकता था। नौशाद किसी एक ठेकेदार के साथ नहीं, बल्कि अलग-अलग ठेकेदारों के साथ काम करता था। उसके मोबाइल से शहर के करीब 14 ठेकेदारों के नंबर मिले हैं। हरि सिंह ने इस शादी में 12 सौ रुपये की दिहाड़ी पर नौशाद को रखा था।

गौरतलब है कि शुक्रवार को एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें गढ़ रोड स्थित अरोमा गार्डन में 16 फरवरी को आयोजित शादी समारोह में खाना बनाया जा रहा था। तंदूर पर समर गार्डन लिसाड़ीगेट निवासी नौशाद रोटियां सेंक रहा था। वह हर रोटी पर थूक रहा था। वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने नौशाद का महामारी एक्ट में चालान कर दिया। मेडिकल पुलिस ने शादी समारोह में नौशाद को लेकर जाने वाले लिसाड़ी गांव के ठेकेदार हरि सिंह से पूछताछ की। इंस्पेक्टर प्रमोद गौतम ने बताया कि पूछताछ में जानकारी मिली है कि नौशाद शहर के कई मंडपों में रोटियां सेंक चुका है। पुलिस फिलहाल उसके पूरे नेटवर्क तक पहुंचना चाह रही है। मामला धार्मिक भावनाओं से जुड़ा होने की वजह से गोपनीय तरीके से जांच की जा रही है। यहां तक माना जा रहा है कि नौशाद के साथ कई अन्य युवक ऐसे हैं, जो रोटियों पर थूक लगाते थे। पुलिस मान रही है कि नौशाद व उसके साथियों की मंशा दूसरे धर्म के लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाने की थी। पुलिस नौशाद पर कुछ और धाराएं भी बढ़ाने जा रही है।

एसएसपी अजय साहनी का कहना है कि मामला लोगों की भावनाओं से जुड़ा है। ऐसे में पुलिस कानून व्यवस्था का ध्यान रखते हुए कार्रवाई कर रही है।

मंडप स्वामी ने भी दी तहरीर

अरोमा गार्डन के मालिक संदीप रमन रस्तोगी ने भी मेडिकल थाने में नौशाद के खिलाफ तहरीर दी है। उन्होंने बताया कि 16 फरवरी को गढ़ रोड निवासी रेनू यादव की शादी में हरि सिंह हलवाई की तरफ से नौशाद को तंदूर पर रोटी बनाने के लिए रखा गया था। नौशाद का कृत्य सहन करने लायक नहीं है। उसके इस कृत्य से मंडप की साख भी खराब हुई है।

धार्मिक भावना भड़काने की हो कार्रवाई

नौशाद के खिलाफ कार्रवाई में भी पुलिस की बड़ी लापरवाही सामने आ रही है। वरिष्ठ अधिवक्ता अनिल बख्शी ने बताया कि नौशाद पर महामारी एक्ट के अलावा आइपीसी की धारा 195ए, 153ए और 705ए में कार्रवाई होनी चाहिए। इन धाराओं का मतलब आमजन की धार्मिक भावनाओं को आहत करना और भ्रांति फैलाना है। उसके इस कृत्य से लोक व्यवस्था भी बाधित हो सकती है। ऐसे में नौशाद पर रासुका की कार्रवाई भी होनी चाहिए। एसएसपी अजय साहनी ने बताया कि विवेचना में नौशाद पर धाराएं बढ़ाई जाएंगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप