विनय विश्वकर्मा, मेरठ : बेशक, दहेज सामाजिक बुराई है। इस पर मंचों से लेकर गलियों तक भाषण तो खूब होते हैं लेकिन समय आने पर बिरले ही इस लोभ से बच पाते हैं। वुशु के राष्ट्रीय खिलाड़ी अनुज कुमार ने अपनी शादी में दहेज में कार लेने से इन्कार करके इस मिथक को तोड़ा है। दशहरा पर इस सामाजिक कुरीति पर प्रहार कर उन्होंने समाज में भी सकारात्मक संदेश दिया है।

वुशु के चार बार के राष्ट्रीय पदक विजेता अनुज कुमार की बुधवार को मोदीपुरम निवासी प्रिया से सगाई होनी है। गुरुवार को शादी है। यूपी पुलिस में कांस्टेबल प्रिया बरेली के आंवला थाने में तैनात हैं।

अपने बूते करने चाहिए शौक

एफ-ब्लॉक गंगानगर निवासी अनुज कुमार का कहना है कि विवाह जैसे पवित्र रिश्ते को दहेज दानवों ने कलंकित कर दिया है। कई बार ऐसे मौकों पर वर पक्ष दहेज की मांग कर देता है कि शुभ घड़ी पर अशुभ साया पड़ जाता है। यदि कार या कोई दूसरा शौक अपने बूते पूरा करना चाहिए। कहते हैं, आजकल लड़के वालों के घर में दहेज की बोली लगती है। उनके घर भी ऐसे प्रस्ताव आए लेकिन मैं और मेरे परिजनों ने उन्हें ठुकरा दिया। यदि सभी लोग दहेज को लेकर ऐसी पहल करें तो यह बुराई स्वत: खत्म हो जाएगी। अनुज के इस निर्णय को पिता उग्रसेन व मां उषा रानी के अलावा रिश्तेदारों ने भी सराहा है।

राज कुंद्रा व संजय दत्त के आयोजन में खेले थे

सीआरपीएफ में कांस्टेबल 26 वर्षीय अनुज कुमार सेंट्रल रिजर्व पुलिस की वुशु टीम में खेलते हैं। वह मणिपुर इम्फाल में स्पोटर्स अथारिटी ऑफ इंडिया में प्रैक्टिस कर रहे हैं। वुशु में अनुज ने उड़ीसा, हरियाणा, लखनऊ व दिल्ली में चार बार राष्ट्रीय पदक जीता है। इससे पहले वह मुंबई में आयोजित इंटरनेशनल सुपर फाइट लीग में दो फाइट जीत चुके हैं। यह प्रतियोगिता अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा व संजय दत्त ने कराई थी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस