मुजफ्फरनगर, दीपक राठी। गांव की गलियों में उदय हुआ अभिनय का सूरज मुंबई में चमक बिखेर रहा है। हुनर और मेहनत के साथ तालमेल कर मुर्सलीन ने सिनेमा जगत में पहचान बनाई है। फिल्म बजरंगी भाईजान में सलमान खान के साथ अदाकारी के बाद अब अंतिम फिल्म में प्रतिभा दिखाई है।

मुर्सलीन कुरैशी का जन्म बुढ़ाना के गांव लोई में हुआ। माता पिता कपड़े बेचने का व्यवसाय करते हैं। शुरुआती पढ़ाई अपने गांव में हुई। मुर्सलीन ने बताया कि बचपन से ही उनका सपना अभिनेता बनने का था। 2012 में सहारनपुर के थिएटर में अभिनय से इसकी शुरुआत की। वर्ष 2013 में एनडीटीवी प्राइम चैनल के रियलिटी शो टिकट टू बॉलीवुड में वह यूपी से अकेले अभिनय के लिए चयनित हुए।

इसी समय सलमान खान की फिल्म बजरंगी भाईजान की भी कास्‍ट‍िंग चल रही थी। रियलिटी शो के जज व कास्‍ट‍िंग डायरेक्टर मुकेश छाबड़ा ने मुर्सलीन की अभिनय क्षमता से प्रभावित होकर उन्हें बजरंगी भाईजान में एक रोल दिलाया। पहली ही फिल्म में सलमान खान के साथ बू अली का किरदार मिला तो उनकी किस्मत चमक गई। वह कहते हैं कि बालीवुड में करियर और सपनों को पूरा करना आसान नहीं, लेकिन मेहनत के दम पर रास्ता बनाया जा सकता है।

सराहनीय है विलेन की भूमिका

मुर्सलीन ने डी कंपनी, नवाबजादे, मुजफ्फरनगर द बर्निंग लव आदि बालीवुड फिल्मों में भी काम किया। हाल में रिलीज हुई सलमान खान की फिल्म अंतिम में भी उन्होंने किरदार निभाया है। विलेन के किरदार में उन्हें खूब सराहना मिल रही है। इसके साथ ही बुढ़ाना निवासी नामचीन अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी के साथ बोले चूड़‍ियां फिल्म की शूटिंग भी कर रहे हैं। अभिनेता रणदीप हुड्डा के साथ ओटीटी प्लेटफार्म पर रिलीज होने वाली वेब सीरीज इंस्पेक्टर अविनाश में भी वह दिखाई देंगे। मुर्सलीन का कहना है कि अभी सफर लंबा है। मंजिल तक पहुंचने के लिए सकारात्मक रहकर अच्छा काम करने की जरूरत है।

Edited By: Taruna Tayal